Monthly Archive: April 2018

0

সবুজ নীলের দেশে, সাদা কালোর দেশে

  বেড়াতে যেতে চান অথচ অনেকদিন ঘোরা হয়নি? শুরু হল পিউ দাশের ট্রাভেলগ সবুজ নীলের দেশে, সাদা কালোর দেশে । প্রতি রবিবার ও বুধবার পড়ুন পিউর ভ্রমনকাহিনী।আজ তৃতীয় পর্ব।   এগারোটা বেজে গেছে।মওসমাই কেভ দেখা শেষ। নোহ্কালিকাই ফলস্ টাও দেখার ইচ্ছে ছিল। ভারতের সবচেয়ে উঁচু জলপ্রপাত বলে কথা! তাছাড়া ফলস্...

0

সবুজ নীলের দেশে, সাদা কালোর দেশে

বেড়াতে যেতে চান অথচ অনেকদিন ঘোরা হয়নি? শুরু হল পিউ দাশের ট্রাভেলগ সবুজ নীলের দেশে, সাদা কালোর দেশে । প্রতি রবিবার ও বুধবার পড়ুন পিউর ভ্রমনকাহিনী।আজ দ্বিতীয় পর্ব। দশই মার্চ আমি এমনিতে ইনসোমনিয়ার রোগী। একটানা দু তিনঘন্টা ঘুম হলে আমি ‘বিশাল ঘুমিয়েছি’ বলি। কেউ আমার বন্ধ ঘরের দরজার বাইরে দাঁড়িয়ে...

0

पल्लवी मुखर्जी की 5 कविताएं

पल्लवी मुखर्जी एक आओ सुनते है एक दूसरे की धड़कनों को धड़कनेंधड़कती हैं जैसेघड़ी की सुईटिक-टिक करती और ले जाती हैं हमेंं उम्र के उस दौर मेंजहाँ न मैं….मैं रहती हूँन तुम….तुम रहते हो हम एक हो जाते हैंउम्मीदों का हरापन लेकर  दो तुम एक पुल होजिस पर सेतमाम रिश्ते गुज़र रहे हैंधड़ाधड़ जैसे गुज़रती...

0

उदयराज की कहानी ‘विश्वास-यात्रा’

उदयराज रितेश और मोहिनी बड़ी सतर्कता से प्लेटफॉर्म पर पहुंच एक कोने में दुबकने के अंदाज़ में बैठ गए। दिल्ली के लिए टिकट आते ही ले लिया था। उनकी नज़रें निरंतर प्लेटफॉर्म पर आने के सभी प्रवेश द्वारों पर घूम रही थीं और कान अनाउंसमेंट पर लगा हुआ था। यूं...

0

पुष्कर बन्धु की 5 कविताएं

पुष्कर बन्धु काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से स्नातक व परास्नातक ( हिन्दी साहित्य ) 2017 । सोशल मीडिया पर कविताओं का प्रकाशन । साहित्य , समाज और राजनीति में  गहरी रुचि । पता – हौसला सिंह लॉज, नसीरपुर, सुसुवाहि , हैदराबाद गेट , BHU चयन और प्रस्तुति : विहाग वैभव  ...

1

नदी पर रोहित ठाकुर की 4 कविताएं

रोहित ठाकुर जन्म तिथि – 06/12/ 1978 शैक्षणिक योग्यता  –   परा-स्नातक राजनीति विज्ञान,विभिन्न प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिकाओं में कविताएँ प्रकाशित, विभिन्न कवि सम्मेलनों में काव्य पाठ   वृत्ति  –   सिविल सेवा परीक्षा हेतु शिक्षण   रूचि : – हिन्दी-अंग्रेजी साहित्य अध्ययन  पत्राचार :- जयंती- प्रकाश बिल्डिंग, काली मंदिर रोड,संजय गांधी नगर, कंकड़बाग , पटना-800020, बिहार  मोबाइल...

1

সবুজ নীলের দেশে, সাদা কালোর দেশে

পিউ দাশ ভিউ পয়েন্ট থেকে ‘সেভেন সিসটারস্ ফলস্ বেড়াতে যেতে চান অথচ অনেকদিন ঘোরা হয়নি? আজ থেকে শুরু হল পিউ দাসের ট্রাভেলগ সবুজ নীলের দেশে, সাদা কালোর দেশে । প্রতি রবিবার ও বুধবার পড়ুন পিউর ভ্রমনকাহিনী।আজ প্রথম পর্ব। আমরা ছয়জন মফল্যাঙের পবিত্র জঙ্গলে তুঙ্গভদ্রার তীরে পড়ে হাম্পি বেড়াতে যাবার মারাত্মক...

दिलीप कुमार की 6 ग़ज़लें 0

दिलीप कुमार की 6 ग़ज़लें

दिलीप कुमार जन्म तिथि : 28 अक्टूबर 1974।मूल निवास : बलिया,  रूपौली, पूर्णिया, बिहार संप्रति- शाखा प्रबंधक, भारतीय स्टेट बैंक               वास्को दा गामा मुख्य शाखा, गोवा।संपर्क : 8806660113 एक   मुझे खुद की नहीं है  फिकर अब तो ।कोई करता नहीं मेरा जिकर अब तो।।सिर्फ रस्ता ही है...

0

भास्कर चौधुरी की 10 कविताएं

1 माँ का आना माँ के आते ही मैं असहज हो जाता हूँ हो जाती है पत्नी असहज हम दोनों के कान खड़े छोटी-छोटी बातों को पकड़ लेने की क्षमता एक-ब-एक दुगुनी-तिगुनी हो जाती है   माँ के आते ही खुश हो जाती है हमारी चार साल की बिटिया वह...