पल्लवी मुखर्जी की 2 कविताएं

पल्लवी मुखर्जी स्त्री स्त्री शब्द-शब्द उतारती है तुम्हेंअपने जीवन मेंभोर की लालिमा मेंलिपे चूल्हे परतुम्हारी चाय कीभीनी खुशबू सेफैलती है उसकी