Monthly Archive: September 2019

0

राहुल कुमार बोयल की 4 कविताएं

राहुल कुमार बोयल जन्म दिनांक- 23.06.1985जन्म स्थान- जयपहाड़ी, जिला-झुन्झुनूं( राजस्थान)सम्प्रति- राजस्व विभाग में कार्मिकपुस्तक- समय की नदी पर पुल नहीं होता (कविता संग्रह)            नष्ट नहीं होगा प्रेम ( कविता संग्रह) मोबाइल नम्बर- 7726060287 ई मेल पता- rahulzia23@gmail.com1. अंगुलियों का धर्म मेरे पास तुम्हारी एक अँगूठी है इसलिए नहीं कि...

0

यारेग़ार : चरम अमानवीयता की संवेदनशील कहानी

संज्ञा उपाध्याय दिल्ली में जनमीं, पढ़ी-लिखीं संज्ञा उपाध्याय युवा संपादक, कहानीकार, फ़ोटोग्राफ़र और शिक्षक हैं. वे साहित्य और संस्कृति की प्रतिष्ठित पत्रिका ‘कथन’ की संपादक हैं. ‘कथन’ के संपादन के लिए उन्हें स्पंदन साहित्यिक पत्रकारिता सम्मान से नवाजा गया.‘कथन’ के साथ उन्होंने पैंतीस पुस्तकों की चर्चित अनूठी श्रृंखला ‘आज के सवाल’...

0

संजीव ठाकुर की कविता ‘प्रेमिका की याद’

संजीव ठाकुर प्रेमिका की याद  1 प्रेमिका की याद मजबूत खूँटी टाँगकर खुद को हुआ जा सकता है निश्चिंत । 2 प्रेमिका की याद शहद में डूबा तीर बार–बार खाने का मन करे । 3 प्रेमिका की याद बरसाती नदी नहीं होती प्रेमिका की याद बूँदा–बाँदी भी नहीं प्रेमिका की...

0

डॉ हंसा दीप की कहानी ‘हरा पत्ता पीला पत्ता’

डॉ. हंसा दीप मेघनगर, जिला झाबुआ, मध्यप्रदेश में जन्म। हिन्दी में पीएच.डी., यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो में लेक्चरार के पद पर कार्यरत। पूर्व में यॉर्क यूनिवर्सिटी, टोरंटो में हिन्दी कोर्स डायरेक्टर एवं भारतीय विश्वविद्यालयों में सहायक प्राध्यापक। कैनेडियन विश्वविद्यालयों में हिन्दी छात्रों के लिए अंग्रेज़ी-हिन्दी में पाठ्य-पुस्तकों के कई संस्करण प्रकाशित। प्रसिद्ध...

0

कथा-कहानी की 13वीं गोष्ठी

कथा- कहानी की ओर से दिनांक 31 अगस्त 2019 को गांधी शांति प्रतिष्ठान में कहानी पाठ का आयोजन किया गया। यह गोष्ठी इस मायन में महत्वपूर्ण थी कि यह दूसरे साल की पहली गोष्ठी थी। पिछले साल कथा कहानी ने बारह गोष्ठियों का आयोजन किया जिसमें पच्‍चीस कथाकारों ने अपनी...

0

‘कविता लिखने से पहले नेक इंसान बनना ज़्यादा जरूरी’

वरिष्ठ कवि विजेंद्र से सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव की ख़ास बातचीत लिटरेचर प्वाइंट संवाद वरिष्ठ कवि विजेंद्र 84 साल की उम्र में भी पूरी सक्रिय हैं. कविता लिखते हैं, पेंटिंग बनाते हैं। फेसबुक पर भी सक्रिय हैं। हिन्दी कविता में उनका स्थान क्या है, यह नए सिरे से बताने की जरूरत...