अमरजीत कौंके की पांच कविताएं

साहित्य अकादमी, दिल्ली ने पंजाबी के कवि , संपादक और अनुवादक डा. अमरजीत कौंके सहित 23 भाषाओँ के लेखकों को वर्ष 2016 के लिए अनुवाद पुरस्कार देने की घोषणा की है. अमरजीत कौंके को यह पुरस्कार पवन करन की पुस्तक ” स्त्री मेरे भीतर ” के पंजाबी अनुवाद ” औरत मेरे अंदर ” के लिए प्रदान किया जाएगा. अमरजीत कौंके पंजाबी और हिन्दी साहित्य में जाने पहचाने कवि हैं. उनके 7 काव्य संग्रह पंजाबी में और 4 काव्य संग्रह हिंदी में प्रकाशित हो चुके हैं.अनुवाद के क्षेत्र में अमरजीत कौंके ने डा. केदारनाथ सिंह, नरेश मेहता, अरुण कमल, कुंवर नारायण, हिमांशु जोशी, मिथिलेश्वर, बिपन चंद्रा सहित 14 पुस्तकों का हिंदी से पंजाबी तथा वंजारा बेदी, रविंदर रवि, डा.रविंदर , सुखविंदर कम्बोज, बीबा बलवंत, दर्शन बुलंदवी, सुरिंदर सोहल सहित 9 पुस्तकों का पंजाबी से हिंदी में अनुवाद किया है. बच्चों के लिए भी उनकी 5 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं.अमरजीत कौंके एक साहित्यक पत्रिका ” प्रतिमान ” के संपादक भी हैं जिसे वह 13 साल से लगातार निकल रहे हैं. अमरजीत ने पंजाबी और दूसरी भाषाओँ के अनुवाद से साहित्य के आदान प्रदान में एक पुल का काम किया है.

आज पेश है उन्हीं की पांच कविताएं, जिन्हें मुूल पंजाबी से हिन्दी में रूपान्तर उन्होंने खुद ही किया है।

 

शब्दों का इन्तज़ार
शब्द जब मेरे पास नहीं होते
मैं भी नहीं बुलाता उन्हें
दूर जाने देता हूँ
अदृश्य सीमाओं तक
उन्हें परिंदे बन कर
धीरे-धीरे
अनंत आकाश में
लुप्त होते देखता हूँ
नहीं !
जबरन बाँध कर
नहीं रखता मैं शब्द
डोरियों से
जंज़ीरों में
पिंजरों में कैद करके
नहीं रखता मैं शब्द
मन को
खाली हो जाने देता हूँ
सूने क्षितिज की भाँति
कितनी बार
अपनी ख़ामोशी को
अपने भीतर गिर कर
टूटते हुए
देखता हूँ मैं
लेकिन इस टूटन को
अर्थ देने केलिए
शब्दों की मिन्नत  नहीं करता
टूटने देता हूँ
चटखने देता हूँ
ख़ामोशी को अपने भीतर
मालूम होता है मुझे
कि कहीं भी चले जाएँ चाहे
अनंत सीमाओं में
अदृश्य दिशाओं में
शब्द
आख़िर लौट कर आएँगे
ये मेरे पास एक दिन
आएँगे
मेरे कवि-मन के आँगन में
मरूस्थल बनी
मेरे मन की धरा पर
बरसेंगे रिमझिम
भर देंगे
सोंधी महक से मन
कहीं भी हों
शब्द चाहे
दूर
बहुत दूर
लेकिन फिर भी
शब्दों के इन्तज़ार में
भरा-भरा रहता
अंत का खाली मन ।
घर का अँधेरा
मैं घर से चला
तो घर का अँधेरा
मेरे साथ साथ
चल रहा था
मेरी आँखों में सूरज था
उज्ज्वल भविष्य के
सपने थे
लेकिन मेरे पाँवों में
पीछे छूट चुके
घर की बेड़ियाँ थीं
रिश्तों की आवाज़ें थीं
मेरे शहर की
छूट रही सीमाएँ थीं
मेरे पूर्वजों की आत्माएँ थीं
मैं अपने रास्तों में अटके
काले पर्वतों से जूझा
मैंने मरूस्थली पगडंडियों को फलाँगा
समुद्रों को तैर कर पार किया
हाथों में सूरज को पकड़ा
तितलियों को
सपनों में सजाया
धीरे-धीरे मैंने
अपनी इच्छा का
अपना संसार बसाया
लेकिन अब
जब कभी भी मैं
भूले भटके
अपने शहर जाता हूँ
अपने घर की
चौखट पर पैर टिकाता हूँ
तो उस घर का अँधेरा
मुझसे अजब सवाल करे है
जिनका जवाब देने से
मेरा मन डरे है
मैं जल्दी-जल्दी
माँ की सूख रही हथेलियों पर
चन्द सिक्के टिकाता हूँ
और वापिस
अपने शहर लौट आता हूँ
लेकिन
मेरे पीछे चल पड़ती हैं
कुछ आवाज़ें
जिनसे बचने के लिए
मैं छटपटाता हूँ
दर्द से बिलबिलाता हूँ
अँधेरे के
इस जंगल से
निकलने के लिए
तिलमिलाता हूँ
आँसू बहाता हूँ
मैं घर से चलता हूँ
तो घर का अँधेरा
अब भी
मेरे साथ साथ चलता है ।
जीवन जिया मैंन
उन लोगों की तरफ देखकर
नहीं जिया जीवन मैने
जिन्होंने मेरे रास्तों में
काँच बिखेर दिया
और मेरे लहू को
सुलगते खंजरों की
तासीर बताई
जिन्होंने
मेरे मासूम मन पर
रिश्तों की परिभाषा को
उल्टे अक्षरों में
लिख दिया
उन लोगों को देखकर
नहीं जिया जीवन मैने
उन लोगों की ओर देखकर भी
नहीं जिया जीवन मैंने
जिन्होंने
इस धरा को
नर्क बनाने में
कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी
जो मौत के बन्जारे बन कर
बेगुनाह सीनों में
सुराख़ करते रहे
भोली-भाली आँखों में जो
आँसूओं के सागर भरते रहे
उन लोगों को देखकर भी
नहीं जिया जीवन मैंने
मैं जीवित रहा
उन लोगों को देखकर
जो मेरे कुछ नहीं थे लगते
लेकिन उनके कमरे
मेरी उदास संध्या की ठहरगाह बने
कितनी ही बार ख़ुदकुशी की तरफ़ जाते
मेरे क़दमों के लिए पनाह बने
उन लोगों को
देखकर जिया जीवन मैंने
जिनके सीने में
मैंने प्यार के चिराग जलते देखे
अभी भी देखे जो
मरूस्थली रास्तों पर
गुलमोहर बीजते
सचमुच उन लोगों को देखकर
जिया जीवन मैंने
जिन्होंने इस जीवन का
अंदर बाहर प्यार से भर डाला
गहन उदासी में भी
जिनके प्यार ने
मनुष्य को जीने के काबिल कर डाला
उन लोगों को देखकर
जिया जीवन मैंने ।
अद्भुत कला
मैं जिन्हें
वर्षों तक
दूध पिलाता रहा
अंगुली पकड़ कर
चलना सिखाता रहा
जब वे मेरी पीठ पर
डंक मार रहे थे
तब मुझे पता चला
कि साँप कभी किसी के
मित्र नहीं होते
लेकिन जब वे
मेरी पीठ पर
डंक मार रहे थे
और मेरे अंगों को
ज़हर से भर रहे थे
तब वे भी नहीं जानते थे
कि मैं
बचपन से ही
यह ज़हर पी-पी कर
पला बढ़ा हूँ
और मुझे
साँपों के सिर कुचलने की
और ज़हर को
ऊर्जा में बदलने की
अद्भुत कला आती है ।
बहुत दूर
बहुत दूर
छोड़ आया हूँ मैं
वो खांस-खांस कर
जर्जर हुए ज़िस्म
भट्टियों की अग्नि में
लोहे के साथ ढलते शरीर
फैक्ट्रियों की घुटन में कैद
बेबसी के पुतले
मैं
बहुत दूर छोड़ आया हूँ
दूर छोड़ आया हूँ
वह पसीने की बदबू
एक-एक निवाले के लिए
लड़ा जाता युद्ध
छोटी-छोटी इच्छाओं के लिए
जिबह होते अरमान
दिल में छिपी कितनी आशाएँ
होठों में दबा कितना दर्द
मैं
कितनी दूर छोड़ आया हूँ
दूर छोड़ आया हूँ
मैं वह युद्ध का मैदान
जहाँ हम सब लड़ रहे थे
रोटी की लड़ाई
अपने-अपने मोर्चों पर
पर मुझे मुट्ठी भर
अनाज क्या मिला
कि मैं सबको
मोर्चों पर लड़ता छोड़ कर
दूर भाग आया हूँ
वे सब अभी भी
वैसे ही लड़ रहे हैं
अंतहीन लड़ाई
उदास
निराश
फैक्ट्रियों में
तिल-तिल मरते
सीलन भरे अंधेरों में गर्क होते
मालिक की
गन्दी गालियों से डरते
थोड़े से पैसों से
अपना बसर करते
पल पल मरते
वे सब
अभी भी
वैसे ही लड़ रहे हैं
मैं ही
बहुत दूर
भाग आया हूँ।
—-
Amarjeet kaunke
Email: pratimaan@yahoo.co.in

8 comments

  1. Hello there! I could have sworn I’ve visited this site before but after
    going through many of the articles I realized it’s new to me.
    Anyhow, I’m certainly pleased I discovered it and I’ll be
    book-marking it and checking back frequently!

Leave a Reply