वर्तमान को राह दिखाती कविताएं

पुस्तक समीक्षा

सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव

 ‘कट रहे वन-उपवन

बना जीवन विजन।

सुख-शांति के आगार

बने कारागार

साकार बने निर्जन’’

शहर की लपलपाती जीभ अपनी सीमा का अतिक्रमण कर खेत-खलिहान-जंगलों को लगातार निगल रही है। वो हर कुछ खा जाना चाहती है। वो खेत-खलिहानों को मॉल में बदल देना चाहती है। जंगल में पेड़ों की जगह कंक्रीट की बिल्डिंग उगाना चाहती है। उसकी महत्वाकांक्षा इतनी बड़ी है कि इंसान और इंसानियत उसके आगे बौने नज़र आने लगे हैं। इस सच्चाई पर तमाम कविताएं लिखी गई हैं लेकिन उन कविताओं को पढ़ते हुए प्रो वरयाम सिंह की ये पंक्तियां याद आती हैं,

कविता में नागरिक सरोकार व्यक्त हों, इससे शायद ही कोई असहमत हो, लेकिन इतने जोर-शोर के साथ कि कविता पत्रकारिता के स्तर पर उतर आये, ये स्वीकार्य नहीं।

प्रोफेसर रामस्वार्थ ठाकुर की कविताएं ठीक इसी जगह खुद को अलग ऊंचाई पर स्थापित करती हैं।नागरिक सरोकारों की चिंता करते वक्त उनकी कविता कविताई से नहीं बिछड़ती। और इसलिए कविता कविता बनी रहती है, ख़बर बनने से बच जाती है। इस आलेख की शुरुआत मैंने कविता की जिन पंक्तियों से की, वो प्रोफेसर ठाकुर की लिखी हुई हैं और उनके सद्य: प्रकाशित कविता संग्रह अतीत के मुखर वर्तमान में संकलित हैं।

अतीत के मुखर वर्तमान में रामस्वार्थ ठाकुर की कविताओं का अंदाज़ और शिल्प प्रभावित करती है। साफ बातों को साफ-साफ ही कहा गया है, वो सीधे मर्म पर चोट करती हैं। मसलन ये जगह, ये शहर कविता की इन पंक्तियों को देखिए

क्या कहूं—

ये शहर क्या नाम है

यही जानो-दोस्त                               

यहां हर दिल शीशा

हर रूह कशिश

यहां हर भेड़िये की खाल पर लिखा

एक मेमने का नाम है।

अतीत के मुखर वर्तमान में कविताओं को 6 खंडों में विभाजित किया गया है। सम-सामयिक कविता, प्रकृति, गांव की कविताएं, विविध कविताएं, बीमार की कविताएं और बच्चों के लिए। हर खंड की कविताओं का अपना अलग संदेश है, अपना अलग अंदाज़ है और अपनी अलग लय है लेकिन हर जगह वो बात आम आदमी की ही करती है। उसके सुख की, उसके दर्द की, उसकी विडंबनाओं की।

आप खुद देखिए कवि जनतंत्र को किस तरह परिभाषित करता है। असली जनतंत्र कविता में वो लिखते हैं

असली जनतंत्र

जहां कानून

किताब की इबारतें

न्याय—विवादों का शेष

नेता—भीड़ को हांकने वाला

मताधिकार—मतदाता सूची में दर्ज एक नाम

और

नागरिक—एक अदद आदमी होता है

इसमें एक ही सहायक क्रिया होता है है।

क्या आप असली जनतंत्र के इस रूप से इनकार कर सकते हैं? आज के मौजूदा राजनीतिक-सामाजिक परिदृश्य को देखिए। इस कविता की एक एक पंक्ति फिट बैठती हैं।

बोलो मत कविता को पढ़ते हुए मुझे असहिष्णुता को लेकर बना डरावना माहौल याद आ जाता है।

बोलो मत

शब्द को शीत लग जाएगा

अथवा

चीनी या जापानी इन्सेफ्लाइटिस का संक्रमण

अथवा

सांप्रदायिक उन्माद में

कोई उसे छूरा भोंक देगा।

अटपटे बोल के बहाने रामस्वार्थ ठाकुर शब्दों की ऐसी चाबुक चलाते हैं कि कविता के कठघरे में खड़ा अपराधी तिलमिला उठता है। मसलन

खामोश है सड़क

राजा की सवारी निकलने वाली है

           *******

नगर के चौराहे पर

भ्रष्टाचार का वेपर लैंप

अंधकार में ऊंघ रहा है।

*******

राजनीति

शेर है, सिंह, भालू, गीदड़ है

यह आम आदमी के खून से मस्ती करती है।

रामस्वार्थ जी की कविताओं में गांव की ज़िन्दगी अपने यथार्थ रूप में उभर कर सामने आती है। गांव की गाय में वो लिखते हैं

गांव की गाय

न बाप, न माय

क्या खाये, कहां जाये

खूंटे से बंधी गाय।

गाय को प्रतीक बनाकर बड़े ही प्रभावी ढंग से गांव की उन मेहनतकश महिलाओं की ज़िन्दगी को भी उकेरने की कोशिश की गई हैं, जो परिवार-गांव-समाज के लिए हाड़तोड़ मेहनत करते हुए पूरी जिंदगी मानो एक खूंटे में बंधी हुई ही गुजार देती हैं। गांव कविता में वो गांव के दर्द को भी बखूबी चित्रित करते हैं

एक गांव-

भोर की उतारी हुई चादर

खेत की जमी हुई खादर

बंजर पड़ी धरती

दीख रह परती।

प्रकृति खंड की कविताओं में भी वो बार-बार गांव की ओर लौटते हैं। शहर में प्रकृति की कद्र कहां?

बीमार की कविताएं बताती हैं कि हम शाब्दिक हमदर्दी के दौर में जी रहे हैं।

वे मित्र

शब्दों में ही

रुपए, दवाएं, सेवाएं

और भी ढेर सारी आवश्यक वस्तुएं देकर

चले जाते हैं

संकलन की आखिरी दो कविताएं देखकर आप चौंक सकते हैं। इतनी धीर-गंभीर बातें करने वाले कवि की कलम बच्चों के लिए चली तो कमाल की चली।

अतीत के मुखर वर्तमान कविता संकलन का प्रकाशन इन्फ़ोलिम्नर मीडिया ने किया है और ये किताब amazon.com पर उपलब्ध है। नीचे के लिंक  पर क्लिक कर इस किताब  को खरीद सकते हैं।

http://www.amazon.in/dp/8193122038/ref=cm_sw_r_tw_dp_3J2uwb1HFXTAT

You may also like...

30 Responses

  1. Hi Dear, are you actually visiting this web page daily, if so after that you will absolutely take good knowledge.

  2. A fascinating discussion is definitely worth comment.
    I believe that you ought to publish more on this topic, it might not be a taboo matter but usually people don’t talk about such subjects.
    To the next! Many thanks!!

  3. It’s a pity you don’t have a donate button! I’d most certainly donate
    to this superb blog! I guess for now i’ll settle for bookmarking and adding your RSS feed to my Google account.
    I look forward to fresh updates and will talk about this site with my Facebook group.
    Talk soon!

  4. Very great post. I simply stumbled upon your weblog and wished to say that I have really loved
    surfing around your weblog posts. After all I’ll be subscribing in your rss feed and I am hoping you write again soon!

  5. Sawinery says:

    What’s up, I would like to subscribe for this webpage to obtain most recent
    updates, so where can i do it please assist.

  6. I’m amazed, I must say. Seldom do I come across a blog that’s both educative and amusing, and without a doubt, you have hit the nail on the
    head. The issue is something not enough folks are
    speaking intelligently about. Now i’m very happy that I stumbled across
    this during my hunt for something relating to this.

  7. Sawinery says:

    Simply want to say your article is as amazing. The clarity in your post is simply cool and i
    can assume you are an expert on this subject.
    Fine with your permission let me to grab your feed to keep updated with forthcoming post.

    Thanks a million and please continue the gratifying work.

  8. I do not know if it’s just me or if everyone else encountering
    issues with your site. It appears as though some of the
    written text within your content are running off the screen.
    Can somebody else please comment and let me know if this is happening to them too?
    This could be a problem with my web browser because I’ve had this
    happen previously. Thanks

  9. Quality articles is the important to be a focus for the people to go to see
    the web page, that’s what this web page is providing.

  10. I love what you guys are up too. This kind of clever work and exposure!
    Keep up the terrific works guys I’ve added you guys to
    my personal blogroll.

  11. It’s amazing to pay a quick visit this web site and reading the views of all
    friends on the topic of this piece of writing,
    while I am also keen of getting know-how.

  12. www says:

    I’ve been browsing online more than 4 hours today, yet I never
    found any interesting article like yours.

    It is pretty worth enough for me. In my opinion, if all web owners and bloggers made good
    content as you did, the internet will be a lot more useful than ever before.

  13. visit site says:

    Thanks for sharing your thoughts on link. Regards

  14. link says:

    This website certainly has all the info I needed about this subject and didn’t
    know who to ask.

  15. rightes says:

    Fine way of telling, and fastidious paragraph to get
    information regarding my presentation subject, which i am going to convey in school.

  16. my site says:

    Hi there, yeah this paragraph is genuinely good and I have learned lot of things
    from it regarding blogging. thanks.

  17. www says:

    Its like you learn my mind! You appear to understand a lot approximately this,
    like you wrote the ebook in it or something. I feel that you simply could
    do with some p.c. to force the message home a little bit, but other than that,
    that is fantastic blog. A fantastic read. I will definitely be back.

  18. here over says:

    Hi, Neat post. There’s an issue with your website in internet explorer, would test this?
    IE still is the marketplace chief and a big portion of other folks will omit your fantastic writing because of this problem.

  19. here over says:

    For most up-to-date information you have to pay a visit internet and on world-wide-web I found this web site as a most excellent web site
    for latest updates.

  20. You’ve gotten the most effective web pages.

  21. Do you mind if I quote a few of your posts as long as I provide credit
    and sources back to your website? My blog site
    is in the very same area of interest as yours and my visitors would certainly benefit from some of the information you present
    here. Please let me know if this alright with you. Cheers!

  22. youtube.com says:

    Hey very interesting blog!

  23. my site says:

    I take pleasure in, result in I discovered exactly
    what I used to be taking a look for. You’ve ended my four day
    lengthy hunt! God Bless you man. Have a great day.
    Bye

  24. Hi, after reading this amazing piece of writing i am too happy
    to share my know-how here with colleagues.

  25. youtube says:

    It’s appropriate time to make some plans for the future and it’s time to
    be happy. I have read this publish and if I may I desire to recommend you few
    interesting issues or advice. Perhaps you could write next articles regarding
    this article. I wish to read more things approximately it!

  26. What’s up, I want to subscribe for this blog to take most recent updates, therefore where can i do it
    please help.

  27. I will immediately clutch your rss as I can not to find your e-mail
    subscription link or newsletter service. Do you have any?
    Kindly permit me recognise in order that I may just subscribe.
    Thanks.

  28. I’m gone to say to my little brother, that he should also
    visit this blog on regular basis to obtain updated from most up-to-date
    gossip.

  29. Jane says:

    I could not refrain from commenting. Well written!

  1. February 21, 2017

    …Recommended websites

    […]The full look of your web site is magnificent, let well as the content material![…]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *