Author: literaturepoint

0

विष्णु खरे को हार्दिक श्रद्धांजलि

कवि-आलोचक-संपादक विष्णु खरे का जाना सचमुच हिन्दी साहित्य के लिए अपूरणीय क्षति है। लिटरेचर प्वाइंट की ओर से उन्हें हार्दिक श्रद्धांजलि। वे हमारे दिलों में अमर रहेंगे। उनकी इस कविता को पढ़िए और महसूस कीजिए कि वो कितने महान कवि थे।   नींद में कैसे मालूम कि जो नहीं रहा...

0

विनोद कुमार दवे की कहानी ‘सहायता’

विनोद कुमार दवे बस में बैठे-बैठे मैंने अनुमान लगाया, जयपुर पहुंचते पहुंचते बारह बज जाएंगे। जगह-जगह बस का रुकना मुझे बेचैन कर रहा था, अभी सात घंटे बाकी थे। इतना लंबा वक़्त बस में काटना बहुत मुश्किल है। मैं पछता रहा था, ट्रेन से आता तो बहुत सुविधाजनक रहता। “खैर...

0

विमलेश त्रिपाठी की 5 प्रेम कविताएं

विमलेश त्रिपाठी विमलेश त्रिपाठी के कविता संग्रह ‘उजली मुस्कुराहटों के बीच’ को अभी किंडल से डाउनलोड करें और अपनी प्रतिक्रिया से हमें अवगत कराएं। डाउनलोड करने के लिए नीचे की तस्वीर पर क्लिक करें। एक भाषा हैं हम शब्दों के महीन धागे हैं हमारे संबंध कई-कई शब्दों के रेशे-से गुंथेसाबुत खड़े...

1

विशाल मौर्य ‘विशु’ की 3 प्रेम कविताएं

विशाल मौर्य ‘विशु’ नूर मुहम्मद नूर के ग़ज़ल संग्रह ‘सबका शायर’ बुक करने के लिए नीचे के लिंक पर क्लिक करें 1.मेरा प्रेम मेरा प्रेमदिल की चहारदीवारी फांदकरतुम्हारे पास जाकर चुपचाप बैठना चाहता हैंवैसे ही जैसे कोई छोटा लड़कापाठशाला की दीवारें फांदकर बैठा रहता हैं बग़ीचे मेंमहुआ के पेड़ से बतियाते हुए मेरा...

0

ध्रुप गुप्त की 4 ग़ज़लें

ध्रुव गुप्त एक हम हाज़िर हैं हाथ उठाए सपना जहां, जिधर ले जाए दरवाज़े पर आस टंगी है खिड़की पर लटके हैं साए तन्हाई में शोर था कितना चीखो तो आवाज़ न आए हम सड़कों पे खड़े रह गए सड़कों ने कल धूल उड़ाए हर कंधे पर बोझ है कितना...

0

अनवर सुहैल की 4 कविताएं

अनवर सुहैल ये कविताएं अनवर सुहैल के कविता संग्रह डरे हुए शब्द से ली गई हैैं। संग्रह किंंडल पर उपलब्ध है। डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें कितना ज़हर है भरा हुआ समय का ये खंड भोगना ज़रूरी था वरना हम जान नहीं पाते कि हमारे दिलों में एक-दूजे...

0

विभव प्रताप की 3 कविताएं

विभव प्रताप छात्र, इलाहाबादविश्वविद्यालय मो- 9621082127 इलाहाबाद गांव की बिजली अँधेरों को करनी होती है जब अठखेलियाँ सन्नाटे से या ढेर सारी बातचीत झींगुर से तब टप से पत्तों के किनारे से झर जाता है कहीं धूप गिर जाता है कहीं खम्भा टूट जाता है कहीं तार और आ पहुँचता...

0

सुशान्त सुप्रिय की कहानी ‘और फिर अंधेरा’

सुशान्त सुप्रिय अमेजन पर अभी बुक करें। कवर पेज पर क्लिक करें इस माह के आखिरी हफ्ते में प्रकाश्य प्रिय गुरमीत ,                       यहाँ हैवलॉक द्वीप , अंडमान के डॉल्फ़िन गेस्ट हाउस से मैंने पिछले हफ़्ते भी तुम्हें पत्र लिखा था  पर तुमने इस पते पर मेरे पत्र का जवाब नहीं दिया है । क्या तुम मुझे पत्र लिखने का अपना वादा भूल गए हो? पिताजी बता रहे हैं कि वहाँ दिल्ली में बहुत गड़बड़ चल रही है । पिछले हफ़्ते से विश्व की सभी प्रमुख महाशक्तियाँ विनाशकारी तृतीय विश्वयुद्ध के मुहाने पर खड़ी हैं । पिताजी का कहना है किअमेरिका और यूरोपीय देश एक ओर हैं जबकि चीन , रूस और उत्तर कोरिया दूसरी ओर हैं । चारो ओर भयऔर आतंक का माहौल छाया हुआ है । डाक-व्यवस्था भी बाधित हुई होगी । शायद इसीलिए तुम्हारी लिखी चिट्ठी मुझे नहीं मिली है । वहाँ हमारा दोस्त नफ़ीस  कैसा है ? और जेनेलिया कैसी है ?  मैं तुम्हारे और  स्कूल के सभी दोस्तों के लिए चिंतित हूँ । सच कहूँ तो मुझे पिताजी की तृतीय विश्वयुद्ध वाली बात पर पूरा यक़ीन नहीं है । हो सकता है , वहाँ दिल्ली में सब ठीक हो और तुमने आलस के मारे मुझे पत्र लिखा ही नहीं हो । हमें यहाँ अंडमान के हैवलॉक द्वीप आए हुए एक हफ़्ते से ज़्यादा समय हो गया है । तुम्हें पता है , मम्मी तो यहाँ आना ही नहीं चाहती थी । वह तो कश्मीर जाना चाहती थी , पर पिताजी हम सब को मना कर यहाँ ले आए । वैसे मेरी  इच्छा शुरू से ही अंडमान के जंगलों में घूमने की थी । अब तो मम्मी को भी यहाँ के समुद्र-तट और यहाँ की हरियाली अच्छी लगने लगी है । इस बीच वहाँ दिल्ली में रितिक रोशन की नई फ़िल्म  लगने वाली थी । जब मैं वापस आऊँगा और सब ठीक होगा तो हम दोनों अपने पापा-मम्मी के साथ इकट्ठे वह फ़िल्म देखने जाएँगे । यहाँ डॉल्फ़िन गेस्ट हाउस के पास के ‘ बीच ‘ से समुद्र में सूर्योदय और सूर्यास्त बहुत सुंदर लगते हैं । पास ही मछलियों से भरी एक छोटी सी नदी भी बह रही है । हमें बहुत मज़ा आ रहा है । हमने बहुत सारी तस्वीरें खींची हैं । जब मैं वापस दिल्ली आऊँगा तब तुम्हें ये सारी सुंदर फ़ोटो दिखाऊँगा । हमारे पड़ोस में  केरल का एक परिवार ठहरा हुआ है । अंकल-आंटी के साथ एक प्यारी-सी छोटी बच्ची भी है । मैं उसके साथ खेलता हूँ । तुम्हारी बहुत याद आ रही है । तुम कैसे हो ? मैं मोबाइल फ़ोन पर तुमसे बात करना चाहता था पर इन  दिनों यहाँ कोई भी फ़ोन काम नहीं कर रहा । पोस्ट-ऑफ़िस यहाँ से दूर है । यहाँ के रसोइया माइकेल अंकल हफ़्ते में दो बार दूर के बाज़ार जा कर खाने-पीने का सामान ख़रीद लाते हैं । लौटते हुए वे डाक-घर से यहाँ की चिट्ठियाँ भी ले आते हैं । तुम्हारी चिट्ठी की प्रतीक्षा है , दोस्त । — तुम्हारा मित्र , पलाश ।...

0

मिथिलेश कुमार राय की 5 कविताएं

मिथिलेश कुमार राय 24 अक्टूबर,1982 ई0 को बिहार में सुपौल जिले के छातापुर प्रखण्ड के लालपुर गांव में जन्म। हिंदी साहित्य में स्नातक। सभी प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं व वेब पत्रिकाओं में कविताएं व (कुछ) कहानियाँ प्रकाशित। वागर्थ व साहित्य अमृत की ओर से क्रमशः पद्य व गद्य लेखन के लिए पुरस्कृत। ...

0

पल्लवी मुखर्जी की 5 कविताएं

पल्लवी मुखर्जी नीचे की पुस्तकों को पढ़ने के लिए तस्वीर पर क्लिक करें एक एक खोल के भीतर घुसा हुआ है रेशम का कीड़ा जैसे किसी कोख की अंधेरी खोह में है एक शिशु छटपटाता है मुक्ति के लिए मुक्ति की प्यास उसे भी है जो देख रहा है अपने...

0

शीघ्र प्रकाश्य कविता संग्रह

मशहूर कवि-कथाकार-उपन्यासकार अनवर  सुहैल  का कविता संग्रह डरे हुए शब्द जल्द ही किंडल पर उपलब्ध होगा उपन्यास : तुम्हारे लिए सबका शायर : शीघ्र प्रकाश्य ग़ज़ल संग्रह कसक : लघु उपन्यास वह जो कल्पना है : कविता संग्रह रोटियों के हादसे : कविता संग्रह

0

उपन्यास : तुम्हारे लिए

शीघ्र प्रकाश्य कविता संग्रह सबका शायर : शीघ्र प्रकाश्य ग़ज़ल संग्रह कसक : लघु उपन्यास वह जो कल्पना है : कविता संग्रह रोटियों के हादसे : कविता संग्रह

0

आशीष कुमार त्रिवेदी के उपन्यास ‘तुम्हारे लिए’ का एक अंश

नीचे की पुस्तकों को पढ़ने के लिए तस्वीर पर क्लिक करें उपन्यास अंश आशीष कुमार त्रिवेदी के उपन्यास ‘तुम्हारे लिए’ का एक अंश मदन से मिलने के बाद से जय और भी बेचैन हो गया था। मन में उथल पुथल मची थी। इतना सब कुछ होने के बाद भी क्या...

0

रंजना जायसवाल की कहानी ‘कैसे लिखूं उजली कहानी’

रंजना जायसवाल जन्म  : ०३ अगस्त को पूर्वी उत्तर-प्रदेश के पड़रौना जिले में | शिक्षा –गोरखपुर विश्वविद्यालय से “’प्रेमचन्द का साहित्य और नारी-जागरण”’ विषय पर पी-एच.डी | प्रकाशन –आलोचना ,हंस ,वाक् ,नया ज्ञानोदय,समकालीन भारतीय साहित्य,वसुधा,वागर्थ,संवेद सहित राष्ट्रीय-स्तर की सभी पत्रिकाओं तथा जनसत्ता ,राष्ट्रीय सहारा,दैनिक जागरण,हिंदुस्तान इत्यादि पत्रों के राष्ट्रीय,साहित्यिक परिशिष्ठों...

0

सबका शायर : शीघ्र प्रकाश्य ग़ज़ल संग्रह

हैं निगह में, पहाड़ के मंज़र और उस पर, उजाड़ के मंज़र ज़िंदगी सिल रही है, फट -फट के कैसे – कैसे, जुगाड़ के मंज़र नूर मुहम्मद नूर के ग़ज़ल संग्रह सबका शायर की प्री-बुकिंग जारी है। यह संग्रह अगस्त के आखिरी हफ्ते में प्रकाशित होगा। अगर आपने अभी तक...

0

कसक : लघु उपन्यास

पहले प्यार में आदमी आमतौर पर नाकाम हो जाता है। और फिर यह पहला प्यार बहुत तकलीफ देता है। अनमित्र भी भूलने की कोशिश कर रहा था लेकिन अचानक पहला प्यार जिस रूप में उसके सामने आकर खड़ा हो गया, उसकी कल्पना भी उसने नहीं की थी। पढ़िए मुहब्बत में...

0

वह जो कल्पना है : कविता संग्रह

#LiteraturepointEbooks प्रेम क्या है इस प्रेम की जगह कहाँ है जितना पूछता हूँ मैं ख़ुद से उतना डूबता हूँ मैं ख़ुद में जो भी यह सवाल करेगा, ऐसे ही डूबता जाएगा। प्रेम होता ही इतना अनन्त है। प्रेम के कई रंगों को अपने शब्दों में साकार किया है अर्पण कुमार...

0

रोटियों के हादसे : कविता संग्रह

भूखा बच्चा रोटी समझ चांद को लपकना चाहता है लेकिन काट दिये जाते हैं उसके पंख वो फड़फड़ाता है छटपटाता है उसका पंख लेकर कोई और उड़ जाता है उसके हिस्से में ना तो रोटी है ना ही उड़ान उसके हिस्से में सिर्फ भूख है सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव के कविता...

0

संजीव ठाकुर की बाल-कथा ‘डरपोक’

संजीव ठाकुर सीतेश पूरे हॉस्टल में बदनाम था। उसकी बदनामी इस बात में थी कि वह न तो कभी ठीक से नहाता था, न ही ढंग से कपड़े पहनता था और न ही बिस्तर ठीक करता था। उसकी किताबें-कापियाँ वगैरह भी जैसे-तैसे ही रहती थीं। वह कभी भी समय पर...

0

चांदनी सेठी कोचर की लघुकथा ‘कामवाली’

चादनी सेठी कोचर रेणु की काम वाली सुनीता उसके घर में पिछले 4 साल से काम कर रही थी। दोनों एक दूसरे को बखूबी समझते थे लेकिन आज सुनीता को काम पर आने में थोड़ी देर क्या हुई, रेणु उस पर चिल्लाने लगी। “क्या बाता है सुनीता, आज तुमने आने...