Category: गद्य

0

हम सब जिसे शबाना के नाम से जानते हैं

पुस्तक समीक्षा मैं शबाना ( उपन्यास ) लेखक : यूसुफ़ रईस  प्रकाशक : नोशन प्रेस ( इंडिया, सिंगापुर, मलेशिया ), ओल्ड नं. 38, न्यू नं. 6, मैक निकोल्स रोड, चैटपट, चेन्नई – 600 013 मूल्य : ₹ 199 मोबाइल संपर्क : 09829595160 शहंशाह आलम शहंशाह आलम हम सब जिसे शबाना...

0

सुशांत सुप्रिय की कहानी ‘गलती’

सुशांत सुप्रिय A-5001 , गौड़ ग्रीन सिटी , वैभव खंड , इंदिरापुरम् , ग़ाज़ियाबाद – 201014 ( उ. प्र. ) मो : 8512070086 ई-मेल : sushant1968@gmail शुक्लाजी ने चश्मा लगाया , थैला उठाया , छड़ी ली और बाज़ार से दूध , सब्ज़ी और अन्य सामान लाने के लिए धीमी चाल...

0

आशीष श्रीवास्तव की लघु कथा ‘तबीयत’

आशीष श्रीवास्तव पिछले एक सप्ताह से राकेश कार्यालय आता और अपने कार्यालयीन सहयोगी नरेश को काम में सहयोग करने के लिए कहता, फिर बहुत-सा काम बताकर चला जाता। कहता : पिताजी की तबियत ठीक नहीं है उन्हें दिखाने जाना है, भाई संभाल ले। नरेश  ने संवेदनशीलता और गंभीरता दिखाई और...

0

सुशान्त सुप्रिय की कहानी ‘मिसफिट’

सुशान्त सुप्रिय मार्फ़त श्री एच. बी. सिन्हा , 5174, श्यामलाल बिल्डिंग , बसंत रोड, ( निकट पहाड़गंज ) , नई दिल्ली – 110055 मो:  8512070086 ई-मेल: sushant1968@ gmail.com उसका सिर तेज़ दर्द से फटा जा रहा था । उसने पटरी से कान लगा कर रेलगाड़ी की आवाज़ सुननी चाही । कहीं कुछ नहीं था । उसने जब-जब जो जो चाहा, उसे नहीं  मिला । फिर आज  उसकी  इच्छा   कैसे  पूरी हो सकती थी । पटरी  पर लेटे-लेटे उसने कलाई-घड़ी देखी ।  आधा घंटा ऊपर हो चुका था पर इंटरसिटी एक्सप्रेसका कोई अता-पता  नहीं  था । इंटरसिटी एक्सप्रेस न सही , कोई पैसेंजर गाड़ी ही सही । कोई मालगाड़ी ही सही । मरने वाले को इससे क्या लेना-देना  कि  वह  किस गाड़ी  के  नीचे  कट  कर  मरेगा ।  उसके सिर के भीतर कोई हथौड़े चला रहा था । ट्रेन उसे क्या मारेगी, यह सिर-दर्द ही उसकी जान ले लेगा — उसने सोचा । शोर भरी गली में एक लंबे सिर-दर्द  का नाम ज़िंदगी है । इस ख़्याल से ही उसके मुँह में एक कसैला स्वाद भर गया । मरने के समय मैं भी स्साला फ़िलास्फ़र हो गया हूँ — सोचकर वह पटरी पर लेटे-लेटे ही मुस्कराया । उसका हाथ उसके पतलून की बाईं जेब में गया । एक अंतिम सिगरेट सुलगा लूँ । हाथ विल्स का पैकेट लिए बाहर  आया  पर  पैकेट  ख़ाली  था ।  दफ़्तर से चलने से पहले ही उसने पैकेट की अंतिम सिगरेट पी ली थी — उसे याद आया । उसके होठों पर गाली आते-आते रह गई । आज सुबह से ही दिन जैसे उसका बैरी हो गया था ।सुबह पहले पत्नी से खट-पट हुई । फिर किसी बात पर उसने बेटे को पीट दिया । दफ़्तर के लिए निकला  तो  बस...

0

अख़बारी नरक की आधी हक़ीक़त

लघु उपन्यास : आधी हक़ीक़त लेखक : शैलेंद्र शान्त प्रकाशक : बोधि प्रकाशन मूल्य : 80 रुपए सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव दूर से जो चीज़ बहुत खूबसूरत और आकर्षक लगती है, जरूरी नहीं कि नजदीक जाने पर भी वो वैसा ही लगे। पत्रकारिता के साथ भी कुछ-कुछ ऐसा ही है। वरिष्ठ...

0

मौजूदा राजनीति पर व्यंग्यात्मक उपन्यास ‘प्रजातंत्र के पकौड़े’

किंडल ई बुक : प्रजातंत्र के पकौड़े व्यंग्यात्मक उपन्यास लेखक :  राकेश कायस्थ मूल्य :  49 रुपए सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव आधुनिक हिन्दी व्यंग्य में राकेश कायस्थ ने अपनी एक अलग और मुकम्मल पहचान बनाई है। आज जब व्यंग्य के नाम पर इतना कूड़ा लिखा जा रहा है कि इस विधा...

0

उदयराज की कहानी ‘विश्वास-यात्रा’

उदयराज रितेश और मोहिनी बड़ी सतर्कता से प्लेटफॉर्म पर पहुंच एक कोने में दुबकने के अंदाज़ में बैठ गए। दिल्ली के लिए टिकट आते ही ले लिया था। उनकी नज़रें निरंतर प्लेटफॉर्म पर आने के सभी प्रवेश द्वारों पर घूम रही थीं और कान अनाउंसमेंट पर लगा हुआ था। यूं...

0

ये लाल रंग है सृजन का…

संजय स्वतंत्र पड़ोस के पांडे जी के घर से उनकी पत्नी के चीखने-चिल्लाने की आवाज सुन कर मेरी नींद टूट गई है। सौतेली मां बेटी पर बुरी तरह बरस रही है। घर की इकलौती मासूम सुबक रही है-‘मम्मी फिर गंदा नहीं होगा।’ ….. मैं शोरगुल सुन कर दरवाजे के पास...

0

उम्मीद बंधाती कविताएं

सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव युवा कवि मनोज चौहान की कविताओं में एक तड़प है। समाज में लगातार बढ़ती असानता उनकी इस तड़प को बढ़ाती जाती हैं और ये तड़प उनकी कविताओं में प्रभावी ढंग से उभर कर आती है। उनके पहले कविता संग्रह ‘पत्थर तोड़ती औरत’ के टाइटल ने ही चौंकाया...

1

आदमी को मुकम्मल बनाने वाली कविताएं

शहंशाह आलम आनन्द गुप्ता जन्म : 19 जुलाई 1976, कोलकाता शिक्षा : कलकत्ता विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य में स्नातकोत्तर प्रकाशन : देश की कुछ महत्वपूर्ण पत्र-पत्रिकाओं में कविताओं का प्रकाशन। कुछ आलेख भी प्रकाशित। कई ब्लॉग पर कविताएँ प्रकाशित। कुछ भारतीय भाषाओं में कविताओं के अनुवाद प्रकाशित। आकाशवाणी एवं दूरदर्शन...

0

सादगी और आत्मीयता का पारस्परिक रचाव

उमाशंकर सिंह परमार भास्कर चौधुरी छत्तीसगढ़ के हैँ, युवा कवि हैं, गद्य और पद्य दोनों में समान हस्तक्षेप रखते हैँ। मैंने उनका लिखा जो भी पढ़ा है, उस आधार पर मेरी मान्यता है कि भास्कर कवियों की भारी भरकम भीड़ में बड़ी दूर से पहचाने जा सकते हैं । वह...

0

राजगोपाल सिंह वर्मा की कहानी ‘…सोलह प्रेम पत्र’

राजगोपाल सिंह वर्मा पत्रकारिता तथा इतिहास में स्नातकोत्तर शिक्षा. केंद्र एवम उत्तर प्रदेश सरकार में विभिन्न मंत्रालयों में प्रकाशन, प्रचार और जनसंपर्क के क्षेत्र में जिम्मेदार वरिष्ठ पदों पर कार्य करने का अनुभव. पांच वर्ष तक प्रदेश सरकार की साहित्यिक पत्रिका “उत्तर प्रदेश “ का स्वतंत्र सम्पादन. इससे पूर्व उद्योग मंत्रालय तथा स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत...

0

आम आदमी का संत्रास बयां करने वाले कवि विनय सौरभ

शहंशाह आलम इस हफ्ते के कवि:  विनय सौरभ एक गोरखा गुज़रा है सीटी बजाता हुआ संदर्भ : विनय सौरभ की कविताएँ शहंशाह आलम संथाल परगना का यह छोटा-सा गाँव : नोनीहाट जो असल में अब गाँव भी नहीं रहा क़स्बा कह सकते हो लेकिन इसकी पहचान पर अब शहर के...

0

मगर वह छूती है आसमान

संजय स्वतंत्र वह टीवी पत्रकार है। बेहद खूबसूरत। दिलकश आवाज। समाचार पढ़ने का अंदाज मुझे ही क्या, सभी को मुग्ध कर देता है। लेकिन अब वह टीवी चैनल छोड़ कर ऑनलाइन मीडिया में नौकरी ढूंढ़ रही है। मेरी उससे मुलाकात बस इत्तेफाक से हुई। नौकरी के सिलसिले में उससे तीन-चार...

0

क्या कोई भी रचनाकार दुष्ट नहीं?

जयप्रकाश मानस 13, नवंबर, 2015 हिंदी की शुष्कता या उर्दू की रवानी ? गोपेश्वर सिंह जी हिंदी के ऐसे जाने-माने प्रोफ़ेसर-लेखक-आलोचक हैं, जिनकी बातें गंभीरता से सुनी जाती रही हैं । कई बाबा नागार्जुन से लेकर अब की पीढ़ी और उनकी दुनिया की रंगत को क़रीब से देखते-परखते रहे हैं...

2

औजार की तरह भाषा का इस्तेमाल करते उमाशंकर सिंह परमार

शहंशाह आलम जन्म : 15 जुलाई, 1966, मुंगेर, बिहार शिक्षा : एम. ए. (हिन्दी) प्रकाशन : ‘गर दादी की कोई ख़बर आए’, ‘अभी शेष है पृथ्वी-राग’, ‘अच्छे दिनों में ऊंटनियों का कोरस’, ‘वितान’, ‘इस समय की पटकथा’, ‘थिरक रहा देह का पानी’ छह कविता-संग्रह तथा आलोचना की पहली किताब ‘कवि...

0

तुम्हारे मौन का गट्ठर लिए घूम रहा

शहंशाह आलम जन्म : 15 जुलाई, 1966, मुंगेर, बिहार शिक्षा : एम. ए. (हिन्दी) प्रकाशन : ‘गर दादी की कोई ख़बर आए’, ‘अभी शेष है पृथ्वी-राग’, ‘अच्छे दिनों में ऊंटनियों का कोरस’, ‘वितान’, ‘इस समय की पटकथा’, ‘थिरक रहा देह का पानी’ छह कविता-संग्रह तथा आलोचना की पहली किताब ‘कवि...

0

अखबार से इश्क की आधी सदी

संजय स्वतंत्र ‘क्या आप एक ऐसी सुबह की कल्पना करेंगे, जिसमें अखबार नाम की कोई चीज न हो? मेरा इरादा आपको डराने या दुखी करने का नहीं, लेकिन अमेरिका में जिस तरह अखबारों का सर्कुलेशन गिर रहा है और नई पीढ़ी जिस तरह इंटरनेट जैसे सूचना और संवाद के नए...

0

धर्म अंहकार का विसर्जन, विजय अंहकार का विस्तार

जयप्रकाश मानस डायरी के ये पन्ने भी पढ़ें 10 नवंबर, 2015 पढ़ता था तो पानी के बर्तन लेकर (बिज्जी जी की पुण्यतिथि पर ) “खोजे खोजे खोजेगा तो तीन लोक को पायेगा, पाए पाए पायेगा तो कित्ता गडेरा खाएगा। विजयदान देथा जी कहते थे –“बचपन में जब शरतचंद्र को पढ़ता...

0

दुनिया को रौशन करने वाली एक ‘चरित्रहीन’ लड़की

संजय स्वतंत्र इन्हें भी पढ़ें आज उससे मिलने जाते वक्त खुद का चरित्र आईने में निहार रहा हूं। कितना आसान होता है न, किसी को चरित्रहीन कहना। खास तौर से जब वह खुले विचारों की हो और करिअर बनाने के लिए शादी करने से लगातार इनकार कर रही हो। आधुनिक...