Category: गद्य

0

दिलीप कुमार की पांच लघुकथाएं

  दिलीप कुमार बलरामपुर जन्मभूमि मुंबई कर्मभूमि रचनाएं विभिन्न प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित संपर्क –9454819660 धूप की छांह पुरानी दिल्ली, सीलमपुर की मंडी। लोग बाग खचाखच, तर-ब-तर, रेलमपेल। सहाफी शीबा ने मुझे मछली मंडी की राह दिखायी। चिलचिलाती धूप, सकीनन अप्रैल, की थी मगर मौसम की बेदर्दी साफ नुमाया थी।...

0

विद्वानों की परिभाषा

  जयप्रकाश मानस एक कवि की डायरी :  किस्त 9 30 अगस्त, 2015 विद्वता : कुछ उत्तर आधुनिक परिभाषाएँ महान और तुच्छ में जो कोई फ़र्क न बता सके, उसे ज्ञानपीठी विद्वान कहा जाये । जो राग-द्वेष के आधार पर निर्णय लिखे, उसे पहले-पहल विद्वान समझा जाये । जो इतिहास...

0

राजनीति और सरोकार

  संजय स्वतंत्र द लास्च कोच : किस्त 8 आज दफ्तर जाने के लिए घर से निकला तो देखा कि चुनाव जीत चुके नेताजी होर्डिंग पर टंग गए हैं। अब वे तस्वीरों में ही नजर आाएंगे, उन सरमाएदारों के साथ जो चुनाव के दौरान उनके साथ लगे रहे। जमीन-जायदाद का...

0

मीनू परियानी की लघुकथा ‘कन्यापूजन’

  मीनू परियानी कल ही बड़ी बहू को चेक अप के लिए हॉस्पिटल ले गये थे , डॉक्टर ने बड़ी मुश्किल  से हाँ की थी, लिंग परीक्षण कानूनन अपराध जो था आजकल . एक पोती पहले से ही थी इसलिए सेठ जी इस बार पोता ही चाहते थे. रिपोर्ट और डॉक्टर...

0

जरा नज़रों से कह दो जी…

  संजय स्वतंत्र द लास्ट कोच : किस्त 7 आज मेट्रो में भीड़ की वजह से सीट नहीं मिली है। तो ऐसी हालत में हमेशा की तरह गेट के किनारे खड़ा हो गया हूं। हर स्टेशन पर यात्री ऐसे घुस रहे हैं, जैसे अगली मेट्रो कभी आएगी ही नहीं। मेरी...

0

अभी तो दुनिया में अन्धेर है

  जयप्रकाश मानस एक कवि की डायरी : किस्त 7 29 अगस्त, 2015 अभी तो दुनिया में अन्धेर है दिन कब का ढल चुका है, जबकि मेरे भीतर हेमंत दा का स्वर गूँज रहा है, प्रदीप का यह अमर गीत, लक्ष्मीकांत – प्यारेलाल का लाजबाब संगीत के साथ, जो मेरे...

0

मो. शफ़ीक़ अशरफ की लघुकथा ‘सुबह के पटाखे’

  मो0 शफ़ीक़ अशरफ मोहिउद्दीनपुर, समस्तीपुर (बिहार) टीवी पर संदेश आ रहा था, दिवाली पर पटाखे कम जलाएँ वायु प्रदूषण बढ़ रहा है और साथ ही ध्वनि-प्रदूषण भी, पटाखों की तेज़ आवाज़ से बच्चे-बूढ़े, पशु-पक्षी सब परेशान हो रहे हैं, ऑफिस जाने का समय हो रहा था जल्दी से तैयार...

0

रवि कुमार गुप्ता की कहानी ‘बेपटरी’

  रवि कुमार गुप्ता नवभारत (भुवनेश्वर) में संवाददाता सेंट्रल यूनिवर्सिटी से पढ़ाई संपर्क : 9471222508, 9437767065 रात का सन्नाटा. सङकें वीरान. स्टेशन की ओर तेजी से बढ़ रहा था. ट्रेन छूट ना जाए कहीं! इस डर ने मेरी रफ्तार बढ़ा दी थी. थैंक गॉड! सही टाइम पर स्टेशन पहुंच गया....

0

सेवा सदन प्रसाद की तीन लघुकथाएं

  सेवा सदन प्रसाद एक हिंदी लेखक मोबाइल की घंटी बजी ।ऑन करने पे आवाज आई — “हेलो,  सुधीर जी नमस्कार ।” ” नमस्कार भाई साहब ।” ” सुधीर जी, आपकी कहानी बहुत अच्छी लगी “कैसी कहानी  ? ” सुधीर जी ने थोड़ा आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा । ”...

0

परसाई की रचनाओं का रंगमंचीय दृष्टिकोण

  अखतर अली मूलतः नाटककार, समीक्षा एवं लघु कथाआें का निरंतर लेखन, आमानाका, कुकुर बेड़ा रायपुर (छ. ग.) माे. न. 9826126781 हरिशंकर परसाई को पढ़ना स्वयं को अपडेट करना है | जब हम परसाई जी को पढ़ रहे होते हैं दरअसल उस क्षण हम अपने समय को पढ़ रहे होते...

0

बीएचयू में बेटियों पर बर्बरता से गुस्से में साहित्यकार

अब महिषासुर को टॉलरेट नहीं करेंगे मैंने तीन दिन पहले नवरात्रि की शुभकामनाएँ दी थी, क्योंकि मैं उस समय आशावादी थी। डंडों से खेला जा रहा है देश में हर तरफ। कहीं पर गरबों के नाम पर तो कहीं पर छेड़छाड़ का विरोध कर रही लड़कियों को हटाने के नाम पर। डांडिया...

1

क्यों न खुश रहें हम

  संजय स्वतंत्र द लास्च कोच : किस्त 6 मेरे आज लिखे के साथ जो तस्वीर देख रहे हैं ना, वो हॉलीवुड की अदाकारा क्रिस्टिन बेल की है, जो हाल में अनजाने में ही अपने एक बयान से सबको खुशियों की सौगात दे गर्इं। कैसे? इसकी चर्चा आगे करूंगा। दरअसल,...

0

भगवान हो सकता है कलेक्टर

  जयप्रकाश मानस www.srijangatha. com कार्यकारी संपादक, पांडुलिपि (त्रैमासिक) एफ-3, छगमाशिम, आवासीय परिसर, पेंशनवाड़ा रायपुर, एक कवि की डायरी : किस्त 6 25 अगस्त, 2015 एक कली दो पत्तियाँ फाइल में उलझे-उलझे बरबस याद आ गये महान संगीतकार भूपेन दा और उनका यह सुमधुर गीत – मन है कि भीतर-ही-भीतर...

0

लौट आओ गौरैया

  संजय स्वतंत्र द लास्ट कोच : किस्त 5 दिल्ली में बरसों से नन्हीं सुकोमल गौरैया नहीं दिख रही। किसी को मालूम भी नहीं कि वह कहां गुम हो गई। एक दिन दफ्तर के सबसे युवा साथी धीरेंद्र ने बताया कि उसके करावल नगर इलाके में गौरैया दिखने लगी है।...

0

सारिका भूषण की दो लघुकथाएं

सारिका भूषण शिक्षा – विज्ञान स्नातक प्रकाशित काव्यसंग्रह —-  ” माँ और अन्य कविताएं ” 2015                            ” नवरस नवरंग ”  साझा काव्य संग्रह 2013  “कविता अनवरत ” (अयन प्रकाशन ) 2017 एवं  ” लघुकथा अनवरत ” ( अयन...

0

मां जियेगी तो हम जियेंगे

संजय स्वतंत्र द लास्ट कोच : किस्त 4 गंगा-यमुना को लेकर जिस दिन उत्तराखंड हाईकोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आया, तब से इन दोनों नदियों को लेकर मैं बेहद भावुक हो गया हूं। यों भी हम सभी भारतीय दिल से भावुक और कल्पनाशील होते हैं। कोई एक दशक पहले तत्कालीन मुख्यमंत्री...

0

शहर काइयांपन सिखाता है

जयप्रकाश मानस www.srijangatha. com कार्यकारी संपादक, पांडुलिपि (त्रैमासिक) एफ-3, छगमाशिम, आवासीय परिसर, पेंशनवाड़ा रायपुर, एक कवि की डायरी किस्त : 5 28 नवंबर, 2011 तदर्थ उपाय मलेशिया ने टैक्सी चालकों द्वारा महिलों के साथ बलात्कार और डकैती की घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए महिलाओं के लिए महिला चालकों द्वारा...

0

उजाले की संभावना तलाशती कहानियां

  किताब कहानी संग्रह : बबूगोशे लेखक : स्वदेश दीपक प्रकाशक :   जगरनॉट बुक्स मूल्य : 250 रुपए सत्येेंद्र प्रसाद श्रीवास्तव इस साल 7 जून को कथाकार स्वदेश दीपक की गुमशुदगी के ग्यारह साल पूरे हो गए। इन ग्यारह सालों  में उन्हें चाहने वाले ठीक वैसे ही बेचैन रहे, जैसी...

3

सुषमा सिन्हा की कहानी ‘रिश्ता’

सुषमा सिन्हा शिक्षा : बीए ऑनर्स (अर्थशास्त्र), फाइल आर्ट में डिप्लोमा छात्र जीवन से ही चित्रकला और लेखन में रुचि विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित। आकाशवाणी और दूरदर्शन पर कई बार रचनाओं का पाठ। चित्रकला के लिए कई बार पुरस्कृत। कृतियां :  मिट्टी का घर (कविता संग्रह), बहुत दिनों के...

2

अर्जित पांडेय की लघुकथा ‘लाल लिपस्टिक’

अर्जित पांडेयछात्र, एम टेकआईआईटी, दिल्लीमोबाइल–7408918861 मैंने देखा उसे ,वो शीशे में खुद को निहार रहा था ,होठों पर लिपस्टिक धीरे धीरे लगाकर काफी खुश दिख रहा था मानो उसे कोई खजाना मिल गया हो । बेहया एक लड़का होकर लडकियों जैसी हरकतें! हां,  इसके आलावा मैं और क्या सोच सकता...