स्मिता सिन्हा की सात कविताएं

मेरा प्रेम और आगे बढ़ने की इजाज़त नहीं देता चलो अब लौटते हैं हम अपने अपने सन्दर्भों में तथाकथित दायरे