Category: LEAD

0

केशव शरण की 2 कविताएं

केशव शरण प्रकाशित कृतियां-तालाब के पानी में लड़की  (कविता संग्रह)जिधर खुला व्योम होता है  (कविता संग्रह)दर्द के खेत में  (ग़ज़ल संग्रह)कड़ी धूप में (हाइकु संग्रह)एक उत्तर-आधुनिक ऋचा (कवितासंग्रह)दूरी मिट गयी  (कविता संग्रह)क़दम-क़दम ( चुनी हुई कविताएं ) न संगीत न फूल ( कविता संग्रह)गगन नीला धरा धानी नहीं है ( ग़ज़ल...

0

श्रुति कुशवाहा की 5 कविताएं

श्रुति कुशवाहा जन्म :       13/02/1978  भोपाल, मध्यप्रदेश शिक्षा :       पत्रकारिता में स्नातकोत्तर (माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विवि. भोपाल) प्रकाशन:           कविता संग्रह “कशमकश” वर्ष 2016, साहित्य अकादमी, मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद, संस्कृति विभाग, भोपाल के सहयोग से प्रकाशित वागर्थ, कथादेश, कादंबिनी, उद्भावना, परिकथा, समरलोक एवं जनसत्ता, दैनिक भास्कर, पत्रिका, नई...

0

धर्मपाल महेेंद्र जैन की 4 कविताएं

धर्मपाल महेंद्र जैन ईमेल : dharmtoronto@gmail.com      फ़ोन : + 416 225 2415 सम्पर्क : 1512-17 Anndale Drive, Toronto M2N2W7, Canada संविधान ना बाँचा, ना देखा, सिर्फ सुना है संविधान के बारे में पटवारी साब जानते हैं खसरा-खतौनी दरोगा साब जानते हैं गाली-गलौच कंपाउंडर साब जानते हैं दस रुपये वाली दवा मास्साब को मालूम है...

0

बढ़ती अमानुिषकता पर केंद्रित ‘कथन’ का नया अंक

‘कथन’ का अंक 83-84 ‘बढ़ती अमानुषिकता से जूझती दुनिया’ विषय पर केंद्रित है। वर्तमान दौर में हिंसा, अमानुषीकरण, युद्धोन्माद जैसे जिन सवालों से हमारे देश में ही नहीं, दुनिया भर में लोग जूझ रहे हैं, उन सवालों पर महत्त्वपूर्ण सामग्री इस अंक में है। अंक में दिवंगत कवि मलखान सिंह...

0

सुधीर सक्सेना को जनकवि केदारनाथ अग्रवाल सम्मान

Previous Next वरिष्ठ कवि सुधीर सक्सेना को 2018 के जनकवि केदारनाथ अग्रवाल सम्मान से नवाजा गया। मुक्तिचक्र और जनवादी लेखक मंच यह सम्मान प्रदान करता है। बाँदा और कालिंजर में 22 और 23 दिसम्बर को दो दिवसीय सम्मान समारोह का आयोजन किया गया था। डीसीडीएफ स्थित कवि केदारनाथ अग्रवाल सभागार...

0

राहुल कुमार बोयाल की 3 कविताएं

राहुल कुमार बोयाल जन्म दिनांक- 23.06.1985जन्म स्थान- जयपहाड़ी, जिला-झुन्झुनूं( राजस्थान)सम्प्रति- राजस्व विभाग में कार्मिकपुस्तक- समय की नदी पर पुल नहीं होता (कविता संग्रह)            नष्ट नहीं होगा प्रेम ( कविता संग्रह)  विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं यथा वागर्थ, सृजन सरोकार, किस्सा कोताह, कथा, दोआबा, हिन्दी जनचेतना, हस्ताक्षर वेब पत्रिका...

0

पवन कुमार मौर्य की 3 कविताएं

पवन कुमार मौर्य जन्मतिथि- 01 जून, 1993 शिक्षा– स्नातक- भूगोल (ऑनर्स) (बीएचयू, बनारस) एमए जनसंचार-एमसीयू, भोपाल. पेशा- दिल्ली में पत्रकारिता पता – वर्तमान – नोएडा स्थाई पता- जन्म- बनारस, अब जिला- चन्दौली गांव- मानिकपुर, पोस्ट- नौबतपुर, थाना-सैयदराजा पिन- 232110 सम्पर्क सूत्र- 9667927643 जंगली संगीत का एक टुकड़ाजब मैं स्वयं, दिमाग...

0

केशव शरण की 4 ग़ज़लें

केशव शरण जन्म–23-08-1960 प्रकाशित कृतियां-तालाब के पानी में लड़की  (कविता संग्रह)जिधर खुला व्योम होता है  (कविता संग्रह)दर्द के खेत में  (ग़ज़ल संग्रह)कड़ी धूप में (हाइकु संग्रह)एक उत्तर-आधुनिक ऋचा (कवितासंग्रह)दूरी मिट गयी  (कविता संग्रह)क़दम-क़दम ( चुनी हुई कविताएं ) न संगीत न फूल ( कविता संग्रह)गगन नीला धरा धानी नहीं है ( ग़ज़ल...

0

अनुरंजन शर्मा की 3 कविताएं

अनुरंजन शर्मा ए – 108, रामनगरिया जे. डी. ए स्कीम  एस. के. आई . टी कॉलेज के पास, जगतपुरा  जयपुर 302017  फोन 9680542664, 7742191212  mail : anuranjan.sharma25 @gmail.com कहानी कहानियों की दुनिया हो सकती है शायद इस दुनिया से भी बड़ी जैसे तारों की खीर गंगा आसमान में है खड़ी सूरज...

0

विष्णु नागर व सरिता कुमारी का कहानी पाठ

Previous Next कथा कहानी की एक गोष्ठी गांधी शांति प्रतिष्ठान में दिनांक 23 नवम्बर, 2019 को हुई . इस गोष्ठी में वरिष्‍ठ कथाकार विष्णु नागर ने अपनी कहानी ‘शैली मेरी,बाकी उसका’ व सरिता कुमारी ने  अपनी कहानी‘ज़मीर‘ का पाठ किया. इन दोनों कहानियों पर बोलते हुए वरिष्‍ठ कथाकार व ज्ञानपीठ...

0

कैलाश मनहर की 5 कविताएं

1. कविता का सूना कोना नींद और उनींद के बीच किसी उबासी में से निकल कर नाम और ईनाम की गुत्थियों के जाल में फँसती रही और बिगड़े हुए रूप पर अपने ही अवसाद और उन्माद के अँधेरों और चकाचौंध में कभी रोती रही कभी हँसती रही विभ्रमित अपनी कंटकाकीर्ण...

0

अंधेरे से लड़ने की ताक़त देने वाली कविताएं

समीक्षित पुस्तक – तनी हुई मुट्ठियाँ (कविता संग्रह)  कवि – रमेश यादव प्रकाशक –कनक प्रकाशन प्रकाशन वर्ष – 2019, मूल्य – 400 रुपये      आनन्द गुप्ता रमेश यादव युवा कविता में नया नाम हैं। ‘तनी हुई मुट्ठियाँ’ उनका दूसरा काव्य संग्रह है।  सबसे पहले इस संग्रह का शीर्षक हमारा ध्यान खींचता...

0

अरुण शीतांश की 3 कविताएं

अरुण शीतांश जन्म  02.11.1972अरवल जिला के विष्णुपुरा गाँव में शिक्षा –एम ए ( भूगोल व हिन्दी)एम लिब सांईसएल एल बी पी एच डी कविता संग्रह  १. एक ऐसी दुनिया की तलाश में २. हर मिनट एक घटना है ३.पत्थरबाज़आलोचना४.शब्द साक्षी हैं सम्मान –           शिवपूजन सहाय सम्मानयुवा शिखर साहित्य सम्मान पत्रिकादेशज नामक पत्रिका का संपादन  संप्रति शिक्षण...

0

पल्लवी मुखर्जी की 5 कविताएं

पल्लवी मुखर्जी शब्द मरते नहीं मेंरे भीतर की आग का थोड़ा सा हिस्सा लेकर तुमने सुलगाई जीवन की लौ बाकि बचे हुए आग की आँच को हवा देती हूँ मैं उसकी लौ पर उबलते हैं शब्द शब्दों की भाषा को पढ़ते हो तुम शब्द मिट्टी में मिलने से पहले एक...

0

शम्भु बादल को जनकवि केदार सम्मान

22 जून को बाबू केदारनाथ अग्रवाल के निर्वाण दिवस के अवसर पर बांदा में आयोजित एक समारोह में कवि शंभू बादल को  “जनकवि केदारनाथ अग्रवाल सम्मान” से नवाजा गया। यह आयोजन जनवादी लेखक मंच द्वारा डीएवी कालेज के हाल में संपन्न हुआ। जैसा कि विदित है जनवादी लेखक मंच की...

0

हर शब्द हमारी पक्षधरता बतलाता है : पंकज बिष्ट

पंकज बिष्ट को दूसरा राजकमल चौधरी स्मृति सम्मान मेघ पांडे “यह पुरस्कार मुझे अपने लिए मिले पुरस्कारों में सबसे बड़ा लगा है क्योंकि यह एक लेखक की जीवन भर की कमाई के पैसे से प्रारंभ किया गया है। लगा जैसे नोबेल प्राइज मिल गया हो। हमारी अम्मा कहा करती थीं-...

0

अपने समय को रेखांकित करती कहानियां : कथा कहानी की 11वीं गोष्ठी

हरियश राय की रिपोर्ट दिनांक 15 जून, 2019 को गांधी शांति प्रतिष्ठान में कथा – कहानी की ओर से एक कथा गोष्ठी का आयोजन किया गया . गोष्ठी की शुरुआत में कथा कहानी के संयोजक हरियश राय ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि कथा कहानी का मकसद हमारे...

1

परितोष कुमार ‘पीयूष’ की दो कविताएं

  परितोष कुमार ‘पीयूष’ इस समय के हत्यारे! हत्यारे अब बुद्धिजीवी होते हैंहत्यारे अब शिक्षित होते हैंहत्यारे अब रक्षक होते हैं हत्यारे अब राजनेता होते हैंहत्यारे अब धर्म गुरु होते हैं हत्यारे अब समाज सेवक होते हैं० हत्यारे अब आधुनिक हो गये हैंहत्यारों ने बदल लिया है हत्या को अंजाम देने के अपने तक तरीकों...

0

आचार्य बलवन्त का गीत ‘बेटी’

  आचार्य बलवन्त विभागाध्यक्ष हिंदी कमला कॉलेज ऑफ  मैनेजमेंट स्टडीस 450, ओ.टी.सी.रोड,  कॉटनपेट,  बेंगलूर-560053 (कर्नाटक) मो. 91-9844558064 , 7337810240 Email- balwant.acharya @gmail.com बेटी चेहरे की मुस्कान है बेटी। घर आयी मेहमान है बेटी। क्षमा, प्रेम, करुणा की मूरत, ईश्वर का वरदान है बेटी। श्रद्धा  और विश्वास है बेटी। मन की पावन प्यास है बेटी। चहल-पहल है घर-आँगन की, खुद में ही कुछ खास है बेटी।...

0

दिलीप कुमार की पांच लघुकथाएं

  दिलीप कुमार बलरामपुर जन्मभूमि मुंबई कर्मभूमि रचनाएं विभिन्न प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित संपर्क –9454819660 धूप की छांह पुरानी दिल्ली, सीलमपुर की मंडी। लोग बाग खचाखच, तर-ब-तर, रेलमपेल। सहाफी शीबा ने मुझे मछली मंडी की राह दिखायी। चिलचिलाती धूप, सकीनन अप्रैल, की थी मगर मौसम की बेदर्दी साफ नुमाया थी।...