मिहिर कुमार की 7 कविताएं

एक मत पूछो कि कौन हो तुम मेरे मन का मौन हो तुम मेरी ताकत मेरा ख्वाब हो तुम खुशबू से भीना अहसास हो तुम दूर हो के भी सबसे पास हो तुम घुप्प अंधेरे में चांद बन के मेरे मन के आसमान में चमकती हो तुम रात भर ओस...