शुक्ला चौधुरी की 3 कविताएं

शुक्ला चौधुरी

मां

एक

जब घर से
अचानक गायब हो जाती थी मां
पहले हम
चावल के कनस्तर में झांकते
फिर दाल मसाले के डिब्बे
से पूछते तब भी
अगर मां आवाज़ नहीं देती
तब हम चूल्हे के पास
खड़े हो जाते और
जोर-जोर से रोते

मां मां मां

चूल्हे से निकल आती थी मां
बहुत बड़े परिवार में

आग हमारी भूख थी

मांं हमारी रोटी।

दो

जब एक
बच्ची को उठा
लिया जाता है
सामुहिक बलात्कार के बाद
उसे मरने के लिए
फेंक दिया जाता है तब

एक मां सारी उम्र

उसी अत्याचार को
अपने ऊपर महसूस करती है फिर

बाकी ज़िंदगी कभी नहीं सोती

मेरा चाँद

कभी बूढ़ा नहीं होता
मेरा चाँद
कृष्ण पक्ष में
एक-एक कर
जब गिरने लगते है
उसके दाँत तब भी
बहुत खूब लगता है
पोपले मुंह की हंसी

अक्सर
याद आ जाते हैं पिता

शुक्ला चौधरी के फेसबुक वॉल से साभार

2 comments

  1. I do not know whether it’s just me or if perhaps everyone
    else encountering problems with your website. It appears
    as if some of the written text in your posts are running off the
    screen. Can someone else please comment and let me know
    if this is happening to them as well? This could be a problem with my web browser because I’ve had this happen before.
    Thank you

  2. Hello there I am so happy I found your weblog, I really found you by accident, while I was browsing on Google for something
    else, Nonetheless I am here now and would just like to say many
    thanks for a tremendous post and a all round entertaining blog (I also love the theme/design),
    I don’t have time to read it all at the minute but I
    have book-marked it and also added your RSS feeds, so when I have time I will be back to read much more,
    Please do keep up the excellent work.

Leave a Reply