भरत प्रसाद की कविता ‘तुम्हारी हंसी’

                             तुम्हारी  हंसी –
                             जैसे अल सुबह की
                              पहली -पहली धूप में भीगी हुई
                              ओस की नयी -नयी  चमक ,
                              जैसे उगते हुए अंकुर की मासूम हरियाली
                             जैसे बिछुड़ी हुई नन्ही चिड़िया का
                             अपनी माँ को पाकर
                             मारे दुलार के चहचहाना |
                             तुम्हारी   हंसी –
                            घनघोर बरसात के बाद
                             पूरब के आकाश में
                             खिली धूप का आकर्षण है
                             वह  है –
                             किसी सुदूर अंचल के उत्सव में
                             लोक धुन पर बजते
                             नर्तकियों के पाजेब की झंकार
                             जैसे  अभी -अभी खिले हुए फूल की निर्मल खुशबू
                              तुम्हारी हंसी –
                              मेरे जीवन में
                              राही के उस सन्देश की तरह है
                              जिसने हमसे कहा था
                              जीवन एक बार मिलता है साथी
                              हमें कभी भूल मत जाना |

You may also like...

Leave a Reply