कमलेश भारतीय की दो लघुकथाएं

ईश्वर का जन्म
वे टूटे घरों का मलबा या कबाड़ उठाने का काम करते थे । कभी काम मिलता , कभी नहीं । रेहड़ी खडी रहती । खच्चर का चारे का खर्च अलग । ऐसे खाली समय में बैठे सोच रहे थे कि क्या किया जाए । ईश्वर तुम कहां हो ? हमारा भी कुछ सोचो । अचानक सामने नजर गई और उनके मन में कुछ कौंध गया । छोटे से पार्क के कोने में दो चार ईंट रख कर लाल कपडा टांग कर एक मूर्ति रख दी । अपनी ओर से कुछ सिक्के भी रख दिए । बस , शाम तक लोगों ने भी पैसे चढा दिए । अंधेरा होते ही वे आए और पैसे अपनी जेब के हवाले किए । मुस्कुराते हुए चल दिए । एक नये ईश्वर का जन्म होते चुका था ।

उपहार
सुबह का समय । अभी धूप आंगन में पसरी नहीं थी ।सूरज बादलों की ओट में से ऊपर उठने की कोशिश में था । पत्नी ने झाड़ू उठाई और आंगन में बिखरे फूलों की तरफ देख कर उलाहना देते कहा कि पड़ोसियों के पेड़ से फूल हमारे आंगन में गिर जाने से सुबह-सुबह झाड़ू न लगाओ तो बहुत बुरा लगता है । इन्हें कहिये न कि इस पेड़ को कटवा डालें । मैंने हंसते इतना ही कहा कि ये कितने अच्छे पड़ोसी हैं कि सुबह-सुबह हमारे आंगन में उपहार के रूप में फूल बिखेर देते हैं , नहीं तो पड़ोसी कब ,कितने कांटे बिखेर दें , कौन रोक सकता है ? पत्नी ने भी झाड़ू लगाते सारा दुख भूल गयी ।

3 comments

  1. Magnificent goods from you, man. I have consider your stuff prior
    to and you are just extremely magnificent. I actually like what you have received right here, certainly like what you are stating
    and the way in which during which you assert it. You are making it entertaining and you continue to care
    for to keep it smart. I cant wait to read far more from you.
    This is really a wonderful web site.

  2. Having read this I thought it was really informative.
    I appreciate you spending some time and energy to put this information together.
    I once again find myself personally spending a significant amount of time
    both reading and posting comments. But so what,
    it was still worth it!

Leave a Reply