मनी यादव की एक ग़ज़ल

मेरा मुकद्दर ग़म की कालिखों में उलझ गया
चराग-ए-मोहब्बत जलने से पहले बुझ गया

मुस्कराने ही वाला था आंसुओं की सम्त देखकर
उससे पहले ही खुशियों का कारवां गुज़र गया

वाकया-ए-ज़िन्दगी में ग़ुरबत एक अभिशाप है
जो उलझा था सवाल आज वो सुलझ गया

ज़माने से तेरी अदावत पहले ही थी मनी
बगावत कर तेरा दिल आज तुझपे गरज गया

You may also like...

Leave a Reply