निर्मल गुप्त की दो कविताएं

मेरे बचपन का कलकत्ता 

कलकत्ता कोलकाता हो गया
बचपन स्मृति  लिए
बाबा गुलाम रसूल की खुरदरी अंगुली थामे
हुगली किनारे
आज भी वहाँ हुमकता है.

बाबा की सुनाई कहानी के आलसी बौने
और उदास मसखरे
आज भी फोर्ट विलियम्स में
अलगोजे पर उदास धुन बजाते
द्वितीय विश्व युद्ध की यादें लिए
बाबा जोहते होंगे मेरी बाट.

बेंगी के एक पलड़े में सादा दही
और दूसरे में मीठी दही
सासाराम का भईया
जब मिष्ठीदोही को मैथिल में पुकारता है
बरामदे में दरांती से सब्जी कतरती चारुलता
बांग्ला में मंद मंद मुस्काती होगी.

न्यू मार्केट के नियोन साइन में
केतली से झरती चाय
वैसे ही दमकती है
ट्राम धीरे धीरे बड़ी एहतियात के साथ
मुसाफिरों के रेले के बीचोंबीच
अपने बड़प्पन के साथ
वैसे ही सरकती है.

वहाँ की लोकल बसों के कंडक्टर
महिला सवारी को उतरता देख अब भी
पुकारता है   ‘जनाना उतरेगा’
पॉलिटिक्स ,पूजा और मछली के इस शहर में
शायद ही कुछ बदला है
कैलेंडर की तारीखों के सिवा.

मेरा बचपन कलकत्ते में था
वह कोलकता में ही
जस का तस रखा होगा
यह सोचते हुए दिल
बड़े जोर से धड़कता है
जॉब चारनाक के कलकत्ता में
मेरी हर बचकाना हिमाकत रेहन रखी है.

मेरठ : एक समय ऐसा भी गुजरा

एक समय ऐसा भी गुजरा
जब मेरे शहर आया था श्रवणकुमार
कांधे पर बेंगी को संतुलित करता
उसके पलड़ों में धरे
दृष्टिहीन और अशक्त माँ बाप को
तीर्थाटन के लिए ले जाता हुआ।

एक समय ऐसा भी गुजरा
जब रूपसी मंदोदरी जाया करती
अपनी सहेलियों के साथ चुहल करती
गाती गुनगुनाती
निर्मल जलाशयों में स्नान करने जाती
निर्विघ्न निर्द्वन्द्व।

एक समय ऐसा भी गुजरा
जब हस्तिनापुर से कुरुक्षेत्र की ओर
कूच करती सेनाओं की पदचाप से
दहल उठा था सारा नगर
और लोग खोजते रह गए थे
धर्म और युद्ध के संधिस्थल।
एक समय ऐसा भी गुजरा
जब रणबांकुरे निकले थे सड़कों पर
तलवारें लहराते बारूद दागते
एकजुट एकमुश्त
आज़ादी के तरानों से
सोई पड़ी इंसानियत को जगाते।

एक समय ऐसा भी गुजरा
जब शहर भर के मसखरे जा घुसे
इतिहास के पीले पन्नों में
और यहाँ की फिजाओं को
उन्होंने रंग डाला
बदनामी के पुनर्पाठ से।

एक समय ऐसा भी गुजरा
जब इतिहास पुरुष बना दिए गए
जातिगत गौरव के सुदर्शन चेहरे
श्रवणकुमार ने बेंगी को धरती पर पटक
माँ बाप को कर दिया
अपने नेह और वक्त से बाहर।

एक समय ऐसा भी गुजरा
जो ठीक से बीता नहीं
ठहरा ही रह गया
मेरे शहर की गंदगी से बजबजाती
संकरी गलियों में
किसी अश्लील किस्से की तरह ।

You may also like...

Leave a Reply