प्रभांशु कुमार की दो कविताएं

लेबर चौराहा और कविता
सूर्य की पहली किरण
के स्पर्श से
पुलकित हो उठती है कविता
चल देती है
लेबर चौराहे की ओर
जहां  मजदूरों की
बोली लगती है।
होता है श्रम का कारोबार
गाँव-देहात से कुछ पैदल
कुछ साइकिलों से
काम की तलाश में आये
मजदूरों की भीड़ में
वह गुम हो जाती है
झोलो में बसुली,साहुल हथौड़ा
और अधपकी कच्ची रोटियाँ
तरह-तरह के श्रम सहयोगी औजार
देख करती है सवाल
सुनती है विस्मय से
मोलभाव की आवाजें
देखती है
आवाजों के साथ मुस्कराता
शहर का असली आईना
कविता न उठाती है हथियार
न लहराती है परचम
वह धीरे-धीरे
मजदूरों की हडिड्यों में समाकर
कैलशियम बन जाती है।
वसुधैव कुटुम्बकम
ना मुसलमान खतरे में है
ना हिन्दू खतरे में है
धर्म और मजहब से बँटता
इंसान खतरे में है
ना राम खतरे में है
ना रहमान खतरे में है
सियासत की भेंट चढ़ता
भाईचारा खतरे में है
ना कुरान खतरे में है
ना गीता खतरे में है
नफरत की दलीलों से
इन किताबों का ज्ञान खतरे में है
ना मस्जिद खतरे में है
ना मंदिर खतरे में है
सत्ता के लालची हाथों
इन दीवारों की बुनियाद खतरे में है
धर्म और मजहब का चश्मा
उतार कर देखो दोस्तों
अब तो हमारा
हिन्दुस्तान खतरे में है
—-
प्रभांशु कुमार
133/11ए अवतार टॉकीज के पीछे तेलियरगंज
इलाहाबाद- 211004
मो-7376347866

 

You may also like...

Leave a Reply