प्रसून परिमल की दो कविताएं

प्रेम-कहानी का एक ‘ पाठक ‘ हूँ…

पता है, मुझे प्रेम कहानियाँ पढ़नी
अच्छी लगती है..बहुत अच्छी लगती है
मैं पढ़ना चाहता हूँ एक-एक प्रेम-कहानी..एक-एक-की प्रेम-कहानी..हर्फ़- हर्फ़..शब्द-शब्द
मैं दुनिया की सारी प्रेम कहानियाँ पढ़ना चाहता हूँ
सच..तुम्हारी भी ..तुम्हारी भी..और तुम्हारी भी…
मैं हर प्रेमी-ह्रदय की संजो-संजो रखी बेशक़ीमती
अक्षय अनुभूतियों का क़तरा -क़तरा पढ़ना चाहता हूँ …जीना चाहता हूँ..महसूस करना चाहता हूँ…
मैं तुम्हारी मौन तन्हाई की तिजौरी में बंद पुस्तक का पन्ना-पन्ना पढ़ना चाहता हूँ…

ना – मानो..पर मैं चाहता हूँ पढ़ना वो कहानियाँ… जो हैं..जो रहीं हैं हमेशा से..अनकही–सी…भटकती-सी..तड़पती-सी..यहाँ-वहाँ.. इधर-उधर
मैं हर बेचैन तड़पती कहानी के गुमसुम ओस-कणों को
अपनी हथेलियों पर रख पढ़ना चाहता हूँ..तुम्हारी क़सम…उनमें डूबना चाहता हूँ..

ज़रा देखो न..सितारों भरी ये निस्तब्ध काली रात
टिमटिमाता-सा..धड़कता-सा आकाश…
माफ़ करना…मैं प्रेमाकाश की हर ‘ नन्हीं ‘ धड़कन.. बस आँखें बंद कर सुनना चाहता हूँ..महसूसने की हद तक महसूस करना चाहता हूँ…

अरे सितारों…ये क्या किया…अपने किस पन्ने को ‘ यूँ ‘ मचोड़ तिरछे अँधेरों में फेंक दिया…मत भूलो ,मैं प्रेम का कथाकार नहीं ,एक पाठक हूँ..मोमबत्तियों की लौ में ‘ आहुत ‘ तुम्हारे सारे प्रेम-पत्रों की राख से लिखी गई तुम्हारी ‘ अ-समाप्त ‘ कहानी का ‘ भस्म-भस्म ‘ पढ़ना चाहता हूँ…गंगा की लहरों में प्रवाहित तुम्हारे ‘ एक ज़िन्दगी बराबर ख़त ‘ को समंदर के
‘ अतल ‘ से निकाल अपने सामने लाना चाहता हूँ…सितारों भर लायक़ धूप में उन्हें पुनः सुखा रख लेना चाहता हूँ…मैं तुम्हारा सब पढ़ना चाहता हूँ..समझते क्यूँ नहीं..मैं ‘ तुम्हें ‘ पढ़ना चाहता हूँ..

तुम न जानो..पर मैं पाठक हूँ न..मुझे पता है कि ये आकाश में टिमटिमाते सितारे नहीं ,हर शख़्स की प्रेम कहानियाँ हैं..नम-सी झिलमिल करती ..तो कभी मासूम मुस्कुराहट वाली टिमटिम करती…
इक बात कहूँ मेरे मित्र ,यार मेरे
मैं ‘ झिल और मिल ‘ के बीच के सम्पूर्ण अंतराल को
मैं ‘ टिम और टिम ‘ के बीच के मुक़म्मल कालखण्ड को ..पढ़ना चाहता हूँ…
मैं तुम्हारी ‘असाधारण ‘ प्रेम -कहानी का एक बेहद साधारण पर सबसे अंतिम पाठक हूँ…बस , तुम्हारा
‘ सब ‘ पढ़ना चाहता हूँ …सssssब…..!!

तुमने विद्रोह क्यों किया?

मैं जानना चाहता हूँ
तुमने विद्रोह क्यूँ किया..
कितने आराम से थे तुम..एक सितारा
अपने सितारों की बस्तियों में
चमकते लटकते-झटकते सितारों के बीच
स्वप्निल रातों का उनींदा मदमस्त संगीत सुनते
लेटे.. अधलेटे..पर
अनायास तुम उठे..पूरी लहक के साथ
भभक उठे..
क्षण भर को सही…
तुम्हारी फ़ैलती बिखरती ‘ विदग्धता ‘ पर
टिक गई सारी क़ायनात की नज़रें…
मेरे भाई…!
..दोस्त मेरे!
बचपन से देखा होगा तुम्हें भी किसी ने…
तुम्हारे नन्हें- नन्हें हाथ-पाँव का
आकाश के बिछौने पर
फ़ेंक-फ़ेंक कर पटक-पटक कर खेलना…
टिमटिम-टिमटिम-सी होती होंगी तुम्हारे भी छोटे-छोटे हाथों की पटकन..बिलकुल अन्य मासूम सितारों की तरह..हँसता-सा..खेलता-सा..
पर तुम्हारी मासूम मुस्कराहट की चमक
पहले धवल ,फिर उज्ज्वल फिर कब प्रज्ज्वलित हो विदग्ध होने लगी ,अफ़सोस..किसी को पता न चला…
बतलाओ मुझे ..बतलाओ मेरे भाई
अपनी रौशनी के भीतर हर रोज़ ‘ टिम- टिम भर ‘
..’टप-टप भर ‘अवसादों की कालिमा
तुम कैसे जमा करते रहे…हमने तो
सितारों की रौशनी ही आज तलक़ देखी है
और तुमने.. स्वयं सितारा हो ‘ रात का अँधेरा ‘ देखा..!!..ओह !!
इक बात कहूँ मित्र !! तुम सितारों की वैभवशाली दुनिया ने ‘ यावत जीवेत सुखं जीवेत ‘ के ऐश्वर्य को भोग- भोग ‘ चार्वाक के अधूरे दर्शन ‘ को पूर्णतः बदनाम कर दिया..
पर हैरत है कि तूम भी तो वहीं थे न..वहीं तो था तुम्हारा जन्म…यौवन..
पर ऐश्वर्य की उकताहट ने तुम्हें
‘ चार्वाक को पूर्णतः ‘ समझा दिया ..और तुमने जान लिया पूरा चार्वाक–“भष्मीभूतस्य देहस्य पुनरागमनम् कुतः..”..सच ,भष्म देह का पुनः आगमन नहीं होता..
और तुमने अर्थ दे दिया ‘ ख़ुद ‘ को ,’ चार्वाक ‘ को..
आकाश की कालिमा के विरुद्ध अपनी ताप से उठ खड़े हुए तुम…
और ‘ ख़ुद ‘ को भष्म कर ‘ क्षणांश ‘ भर सही
सारी क़ायनात- ही रौशन कर डाली..
जानता हूँ ,तुम्हारी देह का पुनरागमन नहीं होगा
पर धन्यवाद मित्र ..तुम्हारी ‘ अग्नि-काया ‘ के
दिव्य -प्रकाश ने हमें ‘ अग्नि-साक्षी ‘ बना दिया..
‘ अग्नि-साक्षी ‘ बना दिया भाई…
हाँ..अग्नि-साक्षी बना दिया
अब ‘ अग्नि -साक्ष्य ‘ बोलेगा..
हाँ..अग्नि की काया से गुजरे नज़र का साक्ष्य बोलेगा
दोष- रहित..संदूषण रहित तपा-तपाया साक्ष्य…
आकाश को गिरफ़्त में लिए कालिमा के विरुद्ध..!!

You may also like...

3 Responses

  1. I’m impressed, I must say. Rarely do I encounter a blog that’s both equally educative and interesting, and let me tell you,
    you’ve hit the nail on the head. The problem is something too few people
    are speaking intelligently about. I’m very happy I found this during
    my search for something relating to this.

  2. I enjoy what you guys are usually up too. This kind of clever work
    and coverage! Keep up the awesome works guys I’ve you guys to our
    blogroll.

  3. Neelam Naveen Neel says:

    Prasoon parimal आपकी कविताएँ बेमिसाल हैं और ये एक कहानी की तरह है जैसे कोई काव्य कथा ।

Leave a Reply