सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव की कविता ‘रोटियों के हादसे’

You may also like...

1 Response

  1. Paritosh kumar piyush says:

    मार्मिक और हृदयस्पर्शी कविता….
    बधाई…

Leave a Reply