सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव की तीन कविताएं

You may also like...

1 Response

  1. Sushma sinha says:

    तीनों कविताएँ बहुत सुन्दर हैं। दोनों छोटी कविताएँ न भूलने वाली कविताएँ हैं। बधाई। 🙂

Leave a Reply