सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव की लघु कथा ‘स्मार्ट फैमिली, स्मार्ट ज़िन्दगी’

You may also like...

2 Responses

  1. विचार करने योग्य लेख। बहुत ही स्पष्ट लिखा गया है, जब डिनर में स्मार्ट फ़ोन है तो समझा जा सकता है स्मार्टफोन के डिनर के बारे में।

  2. विभूति says:

    स्मार्ट पोस्ट भी। यह सपाट बयानी है।कहानी कार की चिंता वाजिब है और लोगों को इस स्मार्ट होती जिंदगी से ख़बरदार रहने की जरुरत भी है।

Leave a Reply