सुशांत सुप्रिय की कहानी ‘दो दूना पांच’

You may also like...

1 Response

  1. Pooja singh says:

    अच्छी कहानी शुरूआत मे नलिन विलोचन शर्मा की कहानी विष के दाँत की झलक मिली फिर सलमान संजय दत्त की और अंत मे नैना साहनी कांड समाज मे हो रहे हर अपराध की छवि परोसी है….. सच है शुरूआत दो दूने पाँच से ही होती है l

Leave a Reply