स्मिता मृणाल की दो कविताएं

स्मिता मृणाल

रेस्ट इन पीस प्रत्यूषा

कितना आसान होता है
झूठ के आवरण में सच को छुपा देना
जाने कितने ही रहस्य कैद होते हैं
इस सच और झूठ के बीच
और इन रहस्यों की खोज में हम पाते हैं खुद को
तर्क और वितर्क के दो अंतिम छोरों पर
जकड़े से ,उलझे से
हम पाते हैं एक गहरी अँधेरी गर्त सी खाई
जिसमें अन्दर तक हम धंसते चले जाते हैं
और वो एक काली यथार्थ की परछाई
निगलती चली जाती है हमारे अस्तित्व को
हम सब धराशायी होते चले जाते हैं

images
अपने अपने संदर्भों में
जब परत दर परत टूटता है खोल रहस्य का
क्योंकि तब सब कुछ उतना सहज नहीं रह जाता
जितना की नज़र आता है
बहुत आसान है हत्या को आत्महत्या
और निडर को कायर करार देना
खारिज करना किसी की मौत को उसकी शुरुआत से
और शुरू करना उसके जीवन को अंत के बाद
हम कुछ और कर भी नहीं सकते
क्योंकि हम तुमसे ज्यादा समझदार और परिपक्व हैं
सम्भव है ज़िंदगी ने तुम्हें पहले भी झकझोरा होगा
ज़िंदगी अब भी हर रोज़ तुम्हें खंगालेगी
तुम बस अपना ख़याल रखना प्रिय
जस्ट रेस्ट इन पीस प्रत्यूषा…..

एक पुल ही तो था मैं

bridge

तो तुम्हीं कहो
आज क्यों ज़िंदगी इस कदर मौन पड़ी है
आज क्यों इस शहर की रफ़्तार थमी है
आज क्यों एक अभियुक्त सा मैं
आज क्यों अभियोगी सारा संसार
एक पुल ही तो था मैं

तो तुम्हीं कहो
क्यों हूँ मैं इस प्रलाप विलाप में
क्यों हूँ बेवजह निशब्द संताप में
आज क्यों मैं राजनीति की हलक में अटका
आज क्यों मैं प्रश्नचिह्नों में भटका
आज क्यों है संशय इस कदर प्रतिमान
एक पुल ही तो था मैं

तो तुम्हीं कहो
जब हाशिये पर था अस्तित्व वह मेरा
अधर में था मेरा वर्तमान
कहाँ थी वो प्रमाणिकता तुम्हारी
कहाँ थी वो संदेहार्थक पहचान
छोड़ो छोड़ो इन बातों को
छोड़ो इन मोहरों की चालों को
देखो तुम्हीं नहीं थमे हो
वक्त तो मेरा भी थमा है
चलो सुनें अब वह एक शोर
की किसी शहर में पुल ढहा है ॥
 

परिचय

स्मिता मृणाल ,भारतीय जनसंचार संस्थान,जे एन यू से पत्रकारिता ,अर्थशास्त्र में एम ए ,कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से बी एड । हिंदुस्तान और नवभारत टाइम्स जैसे स्तरीय मीडिया हॉउस के साथ 15 से अधिक वर्षों का कार्याणुभव ।असोसीयेट लेक्चरर के तौर पर यूनिवर्सिटी में कार्याणुभव । फिलहाल रचनात्मक आलेख और कविता लेखन में सक्रिय ।

You may also like...

2 Responses

  1. I simply could not go away your web site prior to suggesting that I really enjoyed the usual info a person provide in your visitors?
    Is gonna be back incessantly to investigate cross-check new posts

  2. शिवानी says:

    बहुत सुन्दर और सार्थक सृजन प्रिय स्मिता…..? ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *