सुरेंद्र दीप की तीन कविताएं

You may also like...

1 Response

  1. उपरोक्त छन्द-मुक्त कवितायें सरस,प्रवाह-युक्त एवम् भारतीय संस्कति में मूलभूत अवधारणाओं को बड़ी सहजता और सादगी से अभिव्यक्त कर जाती हैं.साथ ही, कहना न होगा कि कवि महोदय जमीन से जुड़े हुए सशक्त हस्ताक्षर हैं.. प्रोफ. चेतन प्रकाश ‘चेतन’

Leave a Reply