संजय शांडिल्य की 5 कविताएं

पिता की तस्वीर आज झाड़ते हुए आलमारी अखबार के नीचे मिल गई पिता की वही तस्वीर कई साल पहले ढूधवाले के हिसाब के वक्त भी यह इसी तरह पाई गई थी माँ की डायरी में फूल की पँखुरी-सी सुरक्षित फिर एक रात जब दादी के दाँतों में हुआ था भीषण...