रूपेश कश्यप की सच्ची कविताएं

राकेश कायस्थ   कुछ कविताएं अच्छी होती हैं। कुछ कविताएं कच्ची होती हैं लेकिन ज्यादातर कविताएं सच्ची होती हैं। ऐसी ही एक सच्ची कविता से पिछले दिनों मुलाकात हो गई- नन्ही-सी उम्र से ही हमारा नन्ही चवन्नियों से याराना था वो भी क्या खूब ज़माना था कि हर बाजी पर...