Tagged: bread

80

सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव की पांच कविताएं

सिस्टम रास्ता रोका है मज़दूरों ने क्योंकि उन्हें रोटी की जरूरत है पुलिस ने बरसाए हैं डंडे क्योंकि भूख उन्हें भी  लगती है भूख दीवानी है मैंने ठंडे चूल्हे में मुहब्बत को दम तोड़ते देखा है भूख दीवानी है किसी को नहीं छोड़ती दूसरा पहलू पहली बार  उसे डर लगा...

0

राज्यवर्द्धन की नौ कविताएं

कागज की कश्ती कागज की नाव बचपन की अब भी तैर रही है पानी में फर्क सिर्फ इतना है कि उसमें मैं नहीं मेरे बच्चे सवार हैं इसलिए मैं किसी से कागज की कश्ती लौटाने की जिद नहीं करता प्रतीक्षा किसी सुबह आप उठते हैं और बारिश की गंध महसूस...