Tagged: Dream

1

नवनीत शर्मा की पांच ग़ज़लें

एक कुछ मेरा उस पार जिंदा है अभी जब कि ये दीवार जिंदा है अभी मेरी हां मजबूरियों का ढोल है दिल में तो इनकार जि़ंदा है अभी हर तरफ है धुंध नफरत की मगर इस जहां में प्‍यार जिंदा है अभी खुदकुशी कर ली कबीले ने मगर एक अदद...

0

सुरेश शर्मा की तीन कविताएं

भयावह दिनों में भरोसे की कविता ( एक ) हम परास्त करेंगे उस काले-दैत्य को ! जो लाल, हरे व भगवा रंगों में आता है और सपनों में मीरा व मरियम को डराता है ताकि हो सके तय कि भरोसा, भय पर भारी है जंग हर लम्हा जारी है….!! (दो)...

0

मल्लिका मुखर्जी की तीन कविताएं

सामंजस्य कितना सामंजस्य है सपनों और वृक्षों में ! दोनों पंक्तियों में सजना पसंद करते हैं । कितना भी काटो-छाँटों उनकी टहनियाँ, तोड़ लो सारे फल चाहे नोंच लो सारी पत्तियाँ, मसल दो फूल और कलियाँ; फिर भी पनपते रहते हैं असीम जिजीविषा के साथ जब तक उन्हें जड़ से...

1

केशव शरण की 15 कविताएं

क्या कहूंगा क्या मैं कह सकूंगा मालिक ने अच्छा नहीं किया अगर किसी ने मेरे सामने माइक कर दिया क्या मैं भी वही कहूंगा जो सभी कह रहे हैं बावजूद सब दुर्दशा के जो वे सह रहे हैं और मैं भी क्या मैं भी यही कहूंगा कि आगे बेहतरीन परिवर्तन...

0

वेद प्रकाश की तीन प्रेम कविताएं

एक लंबी प्रेम कविता तुम धूप में अपने काले लंबे बाल जब-जब सुखाती हो सूरज का सीना फूल जाता है और पूरे आकाश पर छा जाता है मैंने देखा है गुलमुहर के नीचे बस का इंतजार करते हुए बस आए या न आए तुम्हारी छाया गुलमुहर को चटख कर देती...

0

डॉ हरविंदर सिंह बक्शी की तीन कविताएं

विनाश निकट खड़ा है यह धरा पर क्या घटित हो रहा है जाग रहा बाज़ार, इंसान सो रहा है। दागदार करता प्रकृति का आंचल बीज विनाश के मानव बो रहा है। सुरसा जैसी बढ़ रही  सड़कों पर गाड़ियां लील रही लोलुपता वृक्ष, वन और झाड़ियां। तप रहे पर्वत, पिघलती हिम-शिलाएं...

0

आकांक्षा यादव की तीन कविताएँ 

21वीं सदी की बेटी जवानी की दहलीज पर कदम रख चुकी बेटी को माँ ने सिखाये उसके कर्तव्य ठीक वेैसे ही जैसे सिखाया था उनकी माँ ने पर उन्हें क्या पता ये इक्कीसवीं सदी की बेटी है जो कर्तव्यों की गठरी ढोते-ढोते अपने आँसुओं को चुपचाप पीना नहीं जानती है...

5

अमरजीत कौंके की पांच कविताएं

साहित्य अकादमी, दिल्ली ने पंजाबी के कवि , संपादक और अनुवादक डा. अमरजीत कौंके सहित 23 भाषाओँ के लेखकों को वर्ष 2016 के लिए अनुवाद पुरस्कार देने की घोषणा की है. अमरजीत कौंके को यह पुरस्कार पवन करन की पुस्तक ” स्त्री मेरे भीतर ” के पंजाबी अनुवाद ” औरत मेरे...

0

डॉ छवि निगम की पांच कविताएं

स्वतंत्रता एक भेड़ के पीछे पीछे खड्ढे में गिरती जाती अंधाधुंध पूरी कतार को भाईचारे को मिमियाती पूरी इस कौम इतनी सारी ‘मैं’ हम न हो पायीं जिनकी अब तक, उनको… चंहु ओर होते परिवर्तन से बेखबर चाबुक खाते आधी आँखों पे पड़े  परदे से सच आंकते झिर्री भर साम्यवाद...

1

सय्यदैन ज़ैदी की कविता ‘वो जो है ख़्वाब सा…’

वो जो है ख्वाब सा ख़याल सा धड़कन सा सिरहन सा सोंधी खुशबू सा नर्म हवाओं सा सर्द झोकों सा मद्धम सी रौशनी सा लहराती सी बर्क़ सा बिस्तर की सिलवटों सा बाहों में लिपटे तकिए सा जिस्म की बेतरतीब चादर सा सुबहों की ख़ुमारी सा शाम की बेक़रारी सा...

0

विजय ‘आरोहण’ की नौ कविताएं

सारंडा, जंगल और आदिवासी,जल, जंगम और प्रतिरोध की कवितायें 1. हमारे पहाड़ों के बच्चे हमारे पहाड़ों के बच्चे गिल्ली-डंडा खेलते है वह छुप्पम-छुपाई खेलते शाल के पेड़ों के पीछे छिप जाते हैं वह तीर-धनुषों से निशाना साध रहे हैं इसके लिए वह एक बिजुका बनाते हैं और दनदनाती आती है...

0

अर्जित पाण्डेय की कविता ‘यादों के दरीचों से’

एक हसीन ख़्वाब कागज़ की तरह मोड़कर दिल के कमरे में बने यादों के दरीचे पर मैंने रख दिए है धूमिल न हो जाए वो पन्ना इसलिए अक्सर उसे अपने आंसुओ से धोता हूँ उस  ख़्वाब को सजाने में वक्त की कितनी सीमाएं लांघी हमने, ये सोचता हूँ उस पन्ने...

1

डॉ भावना कुमारी की पांच ग़ज़लें

1 कैसा अपना है ये सफ़र मालिक कुछ न आता है अब नज़र मालिक लूट लाते हैं, कूट खाते हैं कर रहे हैं गुजर -बसर मालिक चोट जब भी लगी है सीने पर टूटने लगती है कमर मालिक आ ही जाता है सबके चेहरे पर बीतती उम्र का असर मालिक...

0

वहाँ पानी नहीं है : दर्द को जुबान देती कविताएँ

पुस्तक समीक्षा वीणा भाटिया ‘वहाँ पानी नहीं है’ दिविक रमेश का नवीनतम कविता-संग्रह है। इसके पूर्व इनके नौ कविता-संग्रह आ चुके हैं। ‘गेहूँ घर आया है’ इनकी चुनी हुई कविताओं का प्रतिनिधि संग्रह है। गत वर्ष ‘माँ गाँव में है’ संग्रह आया और बहुचर्चित हुआ। प्रसिद्ध आलोचक नामवर सिंह ने...

0

आदमियत की दुखती रग के निर्दोष राग ढूंढ़ने का नया तरीक़ा

पुस्तक समीक्षा किताब :  चाक पर रेत ( जाबिर हुसेन ) शहंशाह आलम मेरा मानना है कि हर लेखक किसी पहाड़ी कबीले का सदस्य होता है। तभी तो हर लेखक जीवन को, जीवन से जुड़े संघर्ष को इतने निकट से देख पाता है। यह सही भी है। एक सच्चे लेखक...

0

सपना मांगलिक के दस हाइकू

1 जितना जिया लिखा बस उतना लिखूं क्या आगे ? 2 मन अन्दर दुःख का समंदर उठे क्यूँ ज्वाला ? । 3 चीखे खामोशी द्वंद नाद दिल में सुने न कोई । 4 मति भ्रमित ह्रदय कुरुक्षेत्र खुलें न नेत्र । 5 फूटी रुलाई भरी सूखी जग की ताल तलाई...

0

टॉयलेट में घर : दिनेश शर्मा की तीन कविताएं

टॉयलेट में घर (1) जब हम घर की दर्प की दीवारों को कर रहे थे ऊँचा देख रहे थे फर्श के शीशे में अपनी उपलब्धियों का चेहरा खुशियों के आँगन में लगा रहे थे स्वामित्व की बाड़ कपड़ों गाड़ियों मशीनों को सहेजते आत्म मुग्धा में बौराई जब हमारी दुनिया सुलभ...

0

रेखा श्रीवास्तव की कविता ‘एक स्त्री की दिनचर्या’

एक स्त्री की  दिनचर्या पिछले कई दिनों लड़ाई चल रही है एक स्त्री और एक पत्नी के बीच स्त्री ने कसम खाई है कि वह अपनी आत्मरक्षा, सम्मान के लिए अब नहीं झुकेगी पत्नी का दिल पिघलता है, वैसे ही जैसे पिघलता  आ रहा है कई सालों से अपने दर्द...

0

कृष्ण सुकुमार की सात कविताएं

(1) उन दिनों जब हम बच्चे ही थे, तुम कहीं नहीं थे ! न तुम्हारी कोई कल्पना थी, न धारणा, न उपस्थिति न आकार ही कोई ! किंतु एक उत्कट बेचैन अभिलाषा तुम्हें छू लेने की… तुम्हारा साथ पाने की… क्या था वह सब ! हम साथ साथ खेलते साथ...

0

मनोज शर्मा की छह कविताएं

मोम ज़िन्दगी मोम सी जलती रही पिघलती रही हर पल इक नया रूप लिए बनती रही बिखरती रही नयी अनुभूति सी हर एक क्षण हर दिशा में एक जीजिविषा लिए जिन्दगी बदलती रही निखरती  रही एक आकार बना लिया जिन्दगी ने अब मोम की तरह क्षय होकर स्वयं को नया...