Tagged: lathicharge

0

बीएचयू में बेटियों पर बर्बरता से गुस्से में साहित्यकार

अब महिषासुर को टॉलरेट नहीं करेंगे मैंने तीन दिन पहले नवरात्रि की शुभकामनाएँ दी थी, क्योंकि मैं उस समय आशावादी थी। डंडों से खेला जा रहा है देश में हर तरफ। कहीं पर गरबों के नाम पर तो कहीं पर छेड़छाड़ का विरोध कर रही लड़कियों को हटाने के नाम पर। डांडिया...

0

सुशांत सुप्रिय की कहानी ‘क्या नाम था उसका?’

अब पानी सिर से ऊपर गुज़र चुका था । लिहाज़ा प्रोफ़ेसर सरोज कुमार के नेतृत्व में कॉलेज के शिक्षक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए । धरना-प्रदर्शन शुरू हो गया । प्रोफ़ेसर सरोज कुमार देश के एक ग़रीब और पिछड़े प्रांत के क़स्बे किशन नगर के सरकारी कॉलेज में पिछले पच्चीस...