Tagged: rickshaw

0

दिल चुरा के देखो

      संजय स्वतंत्र बिहार की उस मिट्टी से जन्म का नाता है, जो अभावों और सपनों के संघर्ष के साथ एक इंसान बनने की तमीज पैदा करती है। जब हिंदी पट्टी विचार और बाजार से जूझ रहा था, तब पिता की सरकारी नौकरी के कारण देश की राजधानी...

1

हंस राज की लघु कथा ‘दान’

आज मैं बहुत जल्दी में था।  दफ्तर के लिए घर से निकलते-निकलते देर हो गई थी।  सोचा पैदल मेट्रो स्टेशन तक जाऊंगा तो और देर हो जाएगी। अतः रिक्शा ले लिया।  रिक्शेवाला लोहे के छर्रे पर अपनी बूढी हड्डियों के सहारे रिक्शा को खींचता स्टेशन की तरफ चल पड़ा।  स्टेशन...

0

दशरथ की कहानी

सुनील मिश्रा कमाकर अपना व परिवार का पेट भर लेना, ये सपना भले ही देखने-सुनने में बड़ा छोटा लगता हो, मगर बहुत सारे लोगों की आँखों में तैरता ये सपना उन्हें अपने घरों से दूर बहुत दूर ले जाता है, पिछले दिनों नोएडा में ऐसे ही एक मुस्कराते हुए शख्स...