डॉ. मनीष कुमार मिश्रा की कहानी ‘जहरा’

              मैं ठीक से नहीं बता पाऊंगा कि उसका नाम जहरा था या जहरी । इतना याद है कि गाहे  बगाहे लोग दोनों ही नाम इस्तेमाल करते थे । इस बात से कभी जहरा को भी कोई फ़र्क पड़ा हो, ऐसा मुझे याद नहीं । उस गांव-जवार में जहरा की अपनी एक धाक थी। बाबूजी उसे  लड़का मर्द कहते थे। वह पासी टोले की अघोषित नेता थी। अब उम्र होगी  कोई साठ – पैंसठ के आस पास । लंबा, चौड़ा, मेहनती बदन । सांवला पर चमकदार चेहरा । लाल,काले और सफ़ेद बालों की  एक चोटी उसकी पीठ के मध्य तक लटकती रहती ।  मुंह में हमेशा सुरती सुपारी या पान । वह कुर्ती और घाघरा पहनती । साड़ी में मैंने उसे अपने बचपन में देखा है । लेकिन इधर पंद्रह-बीस सालों से यही उसका पहनावा था ।  उसकी तरह कुर्ती और घाघरा उस गांव में  मैंने सिर्फ़ चुड़िहारिन को पहनते देखा है । वैसे यह पहनावा अब उसकी एक पहचान बन गया था ।

            जहरा का सिर्फ़ नाम जहरा था, व्यवहार और बातचीत में एकदम मीठी और हंसी मजाक से भरी हुई । मेहनती और ईमानदार इतनी कि कटाई बोआई के लिए ठाकुर बाभन  साल भर उसकी खैरियत पूछते । लेकिन वह भी एकदम मजी हुई खिलाड़ी थी । इसी गांव ज़वार में उसने अपनी जवानी खपा दी थी ।  जिसने भी कभी उसका मान मर्दन करना चाहा उसे पूरे समाज में नंगा कर दिया। सात महीने के नवजात को अपनी पीठ से बांधे रात भर में अकेले दो तीन बिगहे गेहूं की कटाई कर लेती ।   बाबूजी  बताते हैं कि अपने उम्र समय में जहरा की तूती बोलती थी । हांथ में धारदार हंसिया उसके हमेशा रहता था । उसकी ज़बान तेज़ थी मगर बिगड़ैल नहीं । बड़े – छोटों का ओहम करना जानती थी ।   

           उसे दूर से आता देखकर बाबूजी जोर से चिल्लाते  ,” का हो जहरा नेता ..,” बाबूजी की आवाज पर वह मुस्कुरा देती और घर की तरफ बढ़ने लगती । पास आकर दोनों हांथ ऊपर उठा जोर से कहती,” राजा जी की जय, बाबू की जय ।” बाबूजी फ़िर कहते ,” बईठा, सुरती खाबे ?” फ़िर दोनों की लंबी वार्ता होती । जहरा कई किस्से सुनाते हुए पूरी भाव भंगिमा से प्रस्तुतीकरण करती । बगल ही बैठी दादी को “महतारी, महतारी” कहते हुए महकऊ पक्की सुरती कई बार मांग चुकी होती । अंत में जब दादी कहती कि “अब न देब, कुल चुक ग ।” तब वह आंखें नचा के कहती,,” का हे महतारी, गठियाए त हऊ, द जल्दी नाही त छोर लेब ।” 

              उसकी यह बात सुन दादी हंसने लगती । बाबू की तरफ देख कहती,” देखत हय एकर दहिजरी क दावा ।” बाबूजी जी भी मुस्कुरा कर कहते ” तोहार बिटिया अहाई त छोरिन लेये ।” दादी फिर आंचल में बंधी सुरती खोलते हुए कहती,”बिटिया त अहिन,लेकिन हमार कौनो काम नाइ करत ।” तीर एक दम निशाने पर लगता और जहरा फिर दादी का हांथ पकड़ कहती,” का महतारी ? कौन काम तोहार नाय किहे ? बताव त ?” फ़िर क्या, दादी के पास लंबी सूची होती । दाल दलने से बखारी में गेहूं रखवाने तक । खुरपी मंगवाने से लेकर दाना भुजवाने तक, सब गिना देती ।

                             फ़िर बाबू जी लोहा गरम देख संवेदनात्मक चोट करते हुए कहते,” अरे जहरा नेता एतना खलिहर नाय बाटीन । बड़की नोट द तब कुछ बात बनें ।” यह सुन जहरा क्रोध में आ जाती और दादी से कहती,” नाही महतारी, बाबू झगड़ा लगावत हयेन । तोहार कुल काम होई जाए, रचि के खलियाई जाई ।” यह सुन दादी के चेहरे पर चमक आ जाती । वह फ़िर धीरे से कहती ,”चूनी क रोटी खाबे ?” यह सुन जहरा का चेहरा खिल जाता । वह मुस्कुराते हुए कहती,” बिना महतारी के पूछै , चलअ द ।” इतना कहकर वह खड़ी हो जाती । मशीन वाले घर में उसकी एक थाली और ग्लास अलग से रक्खी हुई थी । वह उसे लेकर दादी के साथ ओसारे की तरफ बढ़ जाती । उनके जाने के बाद बाबूजी धीरे से कहते,” बूढ़ा आपन काम निकार लिहिन । जहरिया एनकर मनबउ करअ थ ।”

             जहरी के बारे में दादी अक्सर एक घटना का जिक्र करती । वो बताती कि जहरी की शादी लालता से हुई थी । शादी के एक साल बाद जब उसे बेटी हुई तो लालता कमाने के लिए कलकत्ता चला गया । किसी ट्रांसपोर्ट की ट्रक पर खलासी का काम करता था । लेकिन जब बहुत दिन हुए उसकी कोई खोज खबर नहीं मिली तो लोग तरह तरह की बातें करने लगे। कुछ लोग यह भी कहते कि किसी दुर्घटना में उसकी मौत हो गई । लेकिन सच्चाई ईश्वर ही जाने । लेकिन वह फिर कभी लौटा नहीं । लालता की मां हमारे यहां ही काम करती थी । सुबह कूचा लेकर दुआर बटोरना, चारा काटना, गोबर पाथना और बर्तन धोने जैसे कई काम वह सुबह से शाम तक करती ।

          लालता के न लौटने और बहू का मुंह देख उसे अपार कष्ट होता । दादी से अपना दुःख कहते वह अक्सर फूट फूट कर रो पड़ती। दादी उसे हिम्मत देती लेकिन मैंने कई बार देखा कि किसी से उसकी बात करते हुए वे खुद रोने लगती । इसी बीच एक दिन सुबह ख़बर आयी कि लालता की मां को रात में सांप ने काट लिया और वह मर गई । रोते बिलखते जहरा पहली बार हमारे घर आयी थी । उसकी गोद में सात – आठ महीने की बच्ची थी । बाबूजी ने उन्हीं के टोले के निहोर को बुलाकर कुछ पैसे दिए और अंतिम संस्कार इत्यादि करने को कहा । बाबूजी ने दादी के हाथों जहरी को भी कुछ पैसे दिए और बोले,” चिंता मत करो, हम सब तो हैं । निहोर सब करेंगे । तुम सब्र से काम लो । होनी को कौन टाल सकता है ?” इतना कहकर बाबूजी खेतों की तरफ चले गए । निहोर भी टोले की तरफ निकल पड़े । जहरी बहुत देर तक दादी के पास रोती रही । दादी ने उसे खूब हिम्मत बधाई, बेटी को पिलाने के लिए दूध दिया । थोड़ी देर बाद जहरी भी वहां से अपने घर को चली गई लेकिन हफ्ते दस दिन बाद ही वह अपनी सास की जगह काम करने आने लगी ।

            दादी बताती कि जहरी बहुत मेहनती थी । ईमानदारी से काम करती । हमारे यहां वह काम से भी संतुष्ट थी कि फ़िर एक बार उसपर दुखों का पहाड़ टूटा । आषाढ़ अभी लगा ही था । उस दिन सुबह से ही बूंदी नहीं टूटी थी । रात करीब आठ बजे के आस पास देवी जी की आरती करके बाबू जी कोठरी में खाना खाने गए । खाना खाकर वे कमरे में सोने चले गए । थोड़ी देर बाद दादी भी बरामदे की लालटेन बुझा घर की मुख्य किवाड़ बंद कर अन्दर हो गई । नौ, साढ़े नौ तक सोता पड़ गया । बाहर पानी लगातार बरस रहा था । रमदुलरिया कुतिया भी मशीन घर के एक कोने में बोरी पर दुबक चुकी थी । 

              उस अंधेरी रात में अजीब सी शांति थी । लगातार बरसते पानी को मानो उस रात अकेले शासन का अधिकार मिला हो । वह उस रात में स्पंदित होनेवाली मानो अकेली वस्तु हो । धरती पानी पीकर अघा रही थी और पानी धरती को अपने अंदर समाए जा रहा था । किसी और के करने के लिए कुछ न था, सब बस दुबके हुए सो रहे थे । ऐसे में किसी के रोने और दरवाजा पीटने की आवाज से दादी कांप गई । हिम्मत करके अन्दर से ही चिल्लाई -” कौन है ?”

” अरे अम्मा दहिजरा मार डारे हो, केवाड़ी खोला । जहरा हई ।” जहरा की आवाज दादी पहचान भी गई थी । उसने तुरंत लालटेन जलाई और किवाड़ खोल दिया ।

             सामने सर से पांव तक पानी में भीगी जहरा खड़ी थी । उसके ओठ कांप रहे थे । आंखें आग उगल रहीं थीं । एक हांथ से बेटी को चिपकाए हुए थी और दूसरे हांथ में कसकर हंसिया पकड़े हुए थी । हांथ कांप रहा था, साड़ी,ब्लाऊज का पता नहीं सिर्फ़ पेटीकोट में वह कांप रही थी । उसे इस तरह देख दादी को बात समझने में देर नहीं लगी । वो उसे घर के अंदर ले गई । अपनी एक साड़ी दी और बेटी को अंगेठी के पास सुलाने के लिए एक कथरी । जहरा बहुत कुछ कहना चाहती थी,लेकिन दादी उसके मुंह पर हाथ रखकर बोली,” कुछ मत बोल । कपड़े बदल ले, मैं आती हूं । तेरे बाबू को भी सुबह उठाऊंगी ।” 

             इतना कहकर दादी घर के अंदर गई और बची हुई रोटी, दाल,चावल और एक बड़ा कटोरा लाई, जिसमें अंगेठी से गरम दूध निकालकर जहरा के सामने रख दिया । जहरा भोकार छोड़कर रोने लगी । इसपर दादी ने उसे अपनी कसम देते हुए चुप रहने को कहा । बोली “सुबह बाबू के सामने सब कहना । अभी खा ले और बच्ची को भी दूध पीला दे । यहीं सीढ़ी के नीचे सो भी जाना । अंगेठी से थोड़ी गर्मी भी मिलेगी । ओढ़ने के लिए भी कुछ देती हूं , तु तब तक खा ले ।” इतना कहकर दादी फिर अपनी कोठरी में गई और एक पुराना कम्बल लकड़ी के बक्से से निकाल लायी 

      जहरा ने अभी थाली छुई भी नहीं थी । यह देख दादी गुस्से में बोली,”खाती क्यों नहीं रे ?” इसपर जहरा बोली,” अम्मा, ये बर्तन जूठा हो जायेगा । मेरी वाली थाली मशीन घर में है, लेकर आती हूं ।” इतना कहकर वह उठने ही वाली थी कि दादी बोली,” इतने पानी में मशीन घर जाने की कोई जरूरत नहीं । चुपचाप इसी में खा ले । ये बर्तन भी अपना संभाल के रख लेना । खा के सो जा, सुबह बात करेंगे।” इतना कहकर दादी वहां से अपनी कोठरी में आ गई । जहरा दादी की ममता से मखा गई और उसकी आंखें गीली हो गईं । उसने चुपचाप खाना खाया, बेटी को दूध पिला अंगेठी के पास ही दीवाल से सटकर कथरी पर सो गई । बाहर पानी अब भी बरस रहा था लेकिन अब वह जहरा को डरावना नहीं लग रहा था । उस रात के बाद जहरा डरना भूल चुकी थी । उसका हंसिया उसके पास ही था, जिसे वह अपने सीनेपर रखकर मानो मन ही मन कोई संकल्प भी ले रही हो । वह जहरा के लिए संकल्पों की भी रात थी ।  

                 अगले दिन सुबह जहरा भोर में ही उठ गई । उसकी आंखों के लाल डोरे साफ़ बता रहे थे कि रात वह जागकर ही काटी है, लेकिन उसके चेहरे पर एक स्थिरता थी । जैसे जैसे आसमान में सिंदूरी रंग फैल रहा था वैसे वैसे जहरा की सक्रियता भी बढ़ गई थी । दादी के उठने से पहले वह घर,आंगन, ओसारा और दुआर बटोर कर खत कतवार घूरे में फेक आई थी। खलंगा में बर्तन साफ कर रसोई घर में रख चुकी थी । गाय का गोबर हटा उपले भी पाथ चुकी थी। जब करने को कुछ न बचा तो वापस अपनी कथरी में बेटी के साथ दुबक गई।  बरसात से तर हो चुकी मिट्टी कूंचे से साफ़ होने के बाद और अधिक महक रही थी । जहरा जीवन के कड़वे जहर से पिछली रात जितनी हताश थी, सुबह उतनी ही निर्विकार । मानो उसे इस जहर को उतारने का  कोई मंत्र मिल गया हो । 

                जब उसकी आंख खुली तो दादी उसे मीठी घुड़की से उठा रही थी ।
“कब से चेल्लात बाटी, सुनात नाय बा ? उठ जल्दी ।” जहरा हड़बड़ा कर उठी और सामने दादी को खड़ा देख शरारत से मुस्कुरा दी । उसकी निश्छल मुस्कान पर दादी भी मुस्कुराते हुए बोली,” मुझे पता है चुड़ैल अपना काम कर के सो रही है ,लेकिन उठ जा । बिटिया को गरम दूध पिला दे और तेरी चाय रखी है, तू भी पी ले । चल फ़िर बाबू बुला रहे हैं ।” बेटी को दूध पिला जहरा ने चाय के साथ बासी रोटी और अचार मांग कर खाया । सीने से बेटी को चिपकाए हुए वह दादी के साथ बाबू के पास पहुंची । 

             बाबूजी उस समय तख्ते पर ही दाढ़ी बना रहे थे । उन्हें देखते ही जहरा फ़िर पिछली रात को याद कर रोने लगी । बाबूजी गंभीर होते हुए बोले,” रो मत, अभी अभी राम निहोर सब बता कर गया मुझे । बरखुआ साला इतना हरामी होगा, मैंने सोचा नहीं था । बताओ वह जेठ लगे तेरा । उसके लिए तुम बेटी की तरह हो । लालता और लालता की मां के बाद यह उसकी जिम्मेदारी थी कि तुम्हारा भी ख्याल रखता। अलगौझी होने से रिश्ते नहीं खत्म होते। कौन कहे ध्यान रखने को, बताओ अपनी बहू बेटी पर ही पापी हाथ डाल रहा है । कीड़े पड़ेंगे साले को। तू चिंता मत कर पूरा पसियान उसे खोज रहा है । मिलेगा तो यही लोग उसकी अक्ल ठिकाने लगा देंगे । मैंने भी राम निहोर से कह दिया है , पुलिस दरोगा सब मैं देख लूंगा, लेकिन उस पापी को मारो ज़रूर ।” इतना कहकर बाबूजी जहरा की प्रतिक्रिया जानने के लिए उसकी तरफ देखे पर जहरा आंखें झुकाए रोए जा रही थी ।

              उसे ढाढ़स बंधाते हुए बाबूजी फ़िर बोले,” तू बिलकुल मत घबराना । निश्चिंत होकर घर जा । हम लोगों के रहते तुझे कुछ नहीं होगा । एकदम निश्चिंत रहो ।” इतना कहकर बाबूजी फ़िर जहरा की तरफ देखे । इस बार जहरा अपने दाहिने हाथ में लिये हंसिये को दिखाते हुए रोते हुए बोली,” बबाबू इही हसिया से ओकर गोड़वइ काटे रहे ; चेल्लात की भाग रहा । डर के नाते हम भीजत बिटिया लिहे अम्मा के लगे आइ गए ।” उसका उत्साह बढ़ाते हुए बाबू फ़िर बोले,” अच्छा किया । बहुत अच्छा किया । तू बहादुर है । ऐसे पापी को ऐसे ही दंड दिया जाना चाहिए । तू बिलकुल चिंता मत कर, पूरा गांव तेरे साथ है । सब तेरी तारीफ़ कर रहे हैं । आराम से घर जा, कोई जरूरत हो तो राम निहोर से कहलवा देना । निहोर तुम्हारे टोले के सबसे जिम्मेदार और सम्मानित आदमी हैं । मेरे भरोसे के हैं , उन्हें मैंने कह दिया है कि तुम्हारा ध्यान रखें । तुम जाओ, सब ठीक हो जायेगा ।” बाबू जी की इन बातों को सुनकर जहरा मुस्करा दी और हांथ जोड़कर वहां से चली गई । 

                अगले दिन सुबह रोज की तरह जहरा अपने काम पर हाज़िर । दादी से खूब हंसी ठिठोली करती । दादी जितना डांटती वह उतना ही हंसती । कुछ दिनों बाद बरखू वापस आ गया था पर गांव में किसी से नजरें नहीं मिला पाता । बाबूजी ने भी उसे बुलाकर खूब हड़काया था । कुछ ही दिनों में वह सूरत कमाने चला गया । जहरा अब अपने टोले की औरतों की अघोषित नेता हो गई थी । किसी ने भी जहरा से कोई फरियाद की तो जहरा अपना सर्वस्व न्योछावर कर उसकी सेवा में हाज़िर । धीरे धीरे जहरा कटाई बोआई के काम की मेठ बन गई । जो जहरा को मना ले उसके घर खलिहान में अनाज सही समय पर भितरा जाता और जो जहरा से टेढ़ा हुआ वह कटाई बोआई को मनई मजदूर को तरस जाता ।

              जहरा अब गांव जवार में जहरा नेता के नाम से मशहूर थीं । ठाकुर महेंद्र प्रताप सिंह के निकम्मे बेटे ललई सिंह ने गेहूं काटते समय जहरी को पीछे से दबोच लिया था, लेकिन शेरनी की तरह झपटते हुए जहरी ललई के सीने पर चढ़ बैठी और हंसिए से उसकी नाक काट ली । चिल्लाते हुए जब ललई भागा तो जहरी हंसिया लिए उसके पीछे दौड़ी। अंत में पंचायत बैठी और ठाकुर महेंद्र सिंह ने जब माफ़ी मांगी तब मामला शांत हुआ। उस गांव जवार में बारह घर ठाकुर,  सौ घर अहिर, तीन सौ घर बाभन और दो सौ घर पासी टोले में हैं । दस बीस घर बनिया और कुछ तेली,माली और नटो के घर हैं । लेकिन किसी ठाकुर की नाक काटने का यह पहला मामला था । पूरा पासी टोला डरा हुआ था, लेकिन सब जहरा के साथ खड़े थे । ठाकुर महेंद्र सिंह बड़े धरम करम के आदमी थे, वे ख़ुद अपने बेटे के खिलाफ़ हो गये थे । उन्होने खुला ऐलान किया था कि जो भी उनके बेटे का साथ देगा वह उनका कोप भाजन बनेगा । धीरे-धीरे मामला शांत हुआ और जहरा को जो नहीं जानता था वो भी जानने लगा ।

            जहरा की ज़रूरत सब को थी । उसकी मेहनत और ईमानदारी पर किसी को कोई शक नहीं था । अब जहरा, जहरा नेता थी । परधानी भी दो बार जीत चुकी है । आगे उसने चुनाव लडने से मना कर दिया । कहती है,”निश्छल लोगों का यह सब काम नहीं, चुनाव वो लड़े जो हराम का खाने की इच्छा रखता हो । अपना तो एक ही सिद्धांत है पहले “क” पीछे “ख” । मतलब कि पहले कर्म करो फ़िर खाने की सोचो ।” 

                   अब जहरा की उम्र ढलान पर है । थोड़ा झुक कर चलने लगी है । लेकिन गले में हसिया और मुंह में पान सोपाड़ी दबाए उसी बुलंद आवाज में बतियाती है । पिछली गर्मियों में जब गांव गया तो अचानक जहरा से मुलाकात हुई । बाबूजी और दादी दोनों अब नहीं रहे । उनको याद करते हुए जहरा बोली,” बेटवा, बाबू अम्मा बहुत आसरा दिहें। आपन बिटिया ऐस मानेन । ओंही के प्रताप से जहरा सब के ललकारे रहाइं । हाउ कमलापति….।” जहरा फ़िर एक कहनी सुनाने में डूब जाती । और मैं डूब जाता उसकी आखों में टिमटिमाते यादों की रोशनी में । जहां हिम्मत हौसले का हांथ पकड़ हर मुसीबत से दो दो हांथ करने को तैयार है । जहां एक औरत सच्चाई और मेहनत से आगे बढ़ते हुए अपने कुछ होने पर गर्व महसूस करती है । जहां एक औरत की हिम्मत  कई जहरीले सापों का फन कुचलकर उनके जहर से समाज को बचा रही है । ये वही औरतें हैं जो अपने आंचल को परचम में बदलना जानती हैं ।

                          मैं आज भी नहीं जानता हूं कि उसका असली नाम जहरा था कि जहरी लेकिन उसने इस नाम को जिस तरह सार्थक किया वह जानना शानदार रहा । 

नाम :डॉ. मनीषकुमार मिश्रा
जन्म :वसंत पंचमी 09 फरवरी 1981,
शिक्षा :मुंबई विद्यापीठ से MA हिंदी (Goldmedalist) वर्ष 2003, B.Ed.वर्ष 2005, “कथाकार अमरकांत : संवेदना और शिल्प” विषय पर डॉ रामजी तिवारी के निर्देशन में वर्ष 2009 में PhD, MBA (मानव संसाधन)वर्ष 2014, MA English वर्ष 2018
संप्रति :के एम अग्रवाल महाविद्यालय (मुंबई विद्यापीठ से सम्बद्ध ) कल्याण पश्चिम, महाराष्ट्र में सहायक आचार्य हिन्दी विभाग में 14 सितंबर 2010 से कार्यरत ।

शोध परियोजना :\
“भारत में किशोर लड़कियों की तस्करी” इस विषय पर मुंबई विद्यापीठ से MRP,वर्ष 2011
“हिन्दी ब्लागिंग” पर UGC स्वीकृत MRP,वर्ष 2013
UGC रिसर्च अवार्डी (RA)के रूप में हिंदी विभाग, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी में जनवरी 2014 से जनवरी 2016 तक कार्य ।
मुंबई विद्यापीठ से “लोक कवि प्रशांत मोरे” परMRPस्वीकृत, वर्ष 2017
ICSSRIMPRESS नई दिल्ली द्वारा “मालेगांव सिनेमा” परMRP स्वीकृत, वर्ष 2019
IIAS शिमला में UGCIUC कार्यक्रम के तहत “असोसिएट” रूप में वर्ष 2011 से वर्ष 2017 तक निर्धारित कार्य ।

सृजन :
राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय पत्र – पत्रिकाओं /पुस्तकों इत्यादि में 67 से अधिक शोध आलेख प्रकाशित ।
150 से अधिक राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठियों / वेबिनारों में सहभागिता ।10 राष्ट्रीय – अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठियों का संयोजक के रूप में सफ़ल आयोजन ।

प्रकाशन :

हिंदी और अंग्रेजी की लगभग 18 पुस्तकों का संपादन ।
अमरकांत को पढ़ते हुए –  हिंदयुग्म नई दिल्ली से वर्ष 2014 में प्रकाशित ।
इस बार तुम्हारे शहर में – कविता संग्रह शब्दशृष्टि, नई दिल्ली से 2018 में प्रकाशित ।
अक्टूबर उस साल – कविता संग्रह शब्दशृष्टि, नई दिल्ली से 2019 में प्रकाशित ।

सम्पर्क :
manismuntazir@gmail.com

91+ 9082556682, 8090100900