Tagged: poem

0

राहुल कुमार बोयल की 4 कविताएं

राहुल कुमार बोयल जन्म दिनांक- 23.06.1985 जन्म स्थान- जयपहाड़ी, जिला-झुन्झुनूं( राजस्थान) सम्प्रति- राजस्व विभाग में कार्मिक पुस्तकें- समय की नदी पर पुल नहीं होता (कविता संग्रह) नष्ट नहीं होगा प्रेम ( कविता संग्रह)मैं चाबियों से नहीं खुलता( काव्य-संग्रह)विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं यथा वागर्थ, सृजन सरोकार, किस्सा कोताह, कथा, दोआबा, हिन्दी जनचेतना, हस्ताक्षर...

0

केशव शरण की 2 कविताएं

केशव शरण प्रकाशित कृतियां-तालाब के पानी में लड़की  (कविता संग्रह)जिधर खुला व्योम होता है  (कविता संग्रह)दर्द के खेत में  (ग़ज़ल संग्रह)कड़ी धूप में (हाइकु संग्रह)एक उत्तर-आधुनिक ऋचा (कवितासंग्रह)दूरी मिट गयी  (कविता संग्रह)क़दम-क़दम ( चुनी हुई कविताएं ) न संगीत न फूल ( कविता संग्रह)गगन नीला धरा धानी नहीं है ( ग़ज़ल...

0

श्रुति कुशवाहा की 5 कविताएं

श्रुति कुशवाहा जन्म :       13/02/1978  भोपाल, मध्यप्रदेश शिक्षा :       पत्रकारिता में स्नातकोत्तर (माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विवि. भोपाल) प्रकाशन:           कविता संग्रह “कशमकश” वर्ष 2016, साहित्य अकादमी, मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद, संस्कृति विभाग, भोपाल के सहयोग से प्रकाशित वागर्थ, कथादेश, कादंबिनी, उद्भावना, परिकथा, समरलोक एवं जनसत्ता, दैनिक भास्कर, पत्रिका, नई...

0

धर्मपाल महेेंद्र जैन की 4 कविताएं

धर्मपाल महेंद्र जैन ईमेल : dharmtoronto@gmail.com      फ़ोन : + 416 225 2415 सम्पर्क : 1512-17 Anndale Drive, Toronto M2N2W7, Canada संविधान ना बाँचा, ना देखा, सिर्फ सुना है संविधान के बारे में पटवारी साब जानते हैं खसरा-खतौनी दरोगा साब जानते हैं गाली-गलौच कंपाउंडर साब जानते हैं दस रुपये वाली दवा मास्साब को मालूम है...

0

संजीव ठाकुर की बाल कविताएं

संजीव ठाकुर ताल      पंखा चलता हन-हन–हन हवा निकलती सन-सन–सन । टिक-टिक टिक–टिक चले घड़ी ठक-ठक –ठक–ठक करे छड़ी । बूंदें गिरतीं टिप–टिप–टिप आँधी आती हिप–हिप–हिप । फू–फू–फू फुफकारे नाग धू–धू-धू जल जाए आग । कोयल बोले कुहू-कुहू पपीहा बोले पिऊ-पिऊ । धिनक-धिनक–धिन बाजे ताल लहर–लहर लहराए बाल ।...

0

संजय शांडिल्य की प्रेम कविताएँ

संजय शांडिल्य जन्म : 15 अगस्त, 1970 |स्थान : जढ़ुआ बाजार, हाजीपुर |                     शिक्षा : स्नातकोत्तर (प्राणीशास्त्र) | वृत्ति : अध्यापन | रंगकर्म से गहरा जुड़ाव | बचपन और किशोरावस्था में कई नाटकों में अभिनय | प्रकाशन : कविताएँ हिंदी की...

0

कैलाश सत्यार्थी की कविता ‘तब हम होली खेलेंगे’

कैलाश सत्यार्थी कवि नोबेल शांति पुरस्‍कार से सम्‍मानित मशहूर बाल अधिकार कार्यकर्ता हैं हर साल होली पर उगते थे इंद्रधनुष दिल खोल कर लुटाते थे रंग मैं उन्हीं रंगों से सराबोर होकर तरबतर कर डालता था तुम्हें भी तब हम एक हो जाते थे अपनी बाहरी और भीतरी पहचानें भूल...

0

निर्मल गुप्त की कविता ‘सदाकत का शिनाख्ती कार्ड’

निर्मल गुप्त सदाकत देखते ही देखते चौरसी* से कुरेद लेता सख्त से सख्त काठ पर खूबसूरत बेल बूटे , नाचता हुआ मोर छायादार पेड़ ,फुदकती गिलहरी , उड़ती तितली खिला हुआ फूल , खपरेल वाला सुंदर मकान मटकी लिए जाती पतली कमर वाली षोडशी. उसे मिला हुआ था सरकार बहादुर से माकूल...

0

विवेक आसरी की 6 कविताएं

विवेक आसरी विवेक आसरी कर्म से पत्रकार. मन से यायावर. और वचन से लेखक. वह 15 वर्षों से पत्रकारिता कर रहे हैं. भारत, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया के मीडिया संस्थानों में ऑनलाइन, रेडियो और टीवी पत्रकारिता कर चुके हैं. फिलहाल ऑस्ट्रेलिया के एसबीएस रेडियो की हिंदी सेवा के लिए बतौर प्रोड्यूसर काम कर...

0

पूनम शुक्ल की 6 कविताएं

पूनम शुक्ल जन्म 26 जून 1972  जन्म स्थान – बलिया , उत्तर प्रदेश  शिक्षा – बी ० एस ० सी० आनर्स ( जीव विज्ञान ), एम ० एस ० सी ० – कम्प्यूटर साइन्स ,एम० सी ० ए ० । कुछ वर्षों तक विभिन्न विद्यालयों में कम्प्यूटर शिक्षा प्रदान की...

0

अनुरंजन शर्मा की 3 कविताएं

अनुरंजन शर्मा ए – 108, रामनगरिया जे. डी. ए स्कीम  एस. के. आई . टी कॉलेज के पास, जगतपुरा  जयपुर 302017  फोन 9680542664, 7742191212  mail : anuranjan.sharma25 @gmail.com कहानी कहानियों की दुनिया हो सकती है शायद इस दुनिया से भी बड़ी जैसे तारों की खीर गंगा आसमान में है खड़ी सूरज...

0

कैलाश मनहर की 5 कविताएं

1. कविता का सूना कोना नींद और उनींद के बीच किसी उबासी में से निकल कर नाम और ईनाम की गुत्थियों के जाल में फँसती रही और बिगड़े हुए रूप पर अपने ही अवसाद और उन्माद के अँधेरों और चकाचौंध में कभी रोती रही कभी हँसती रही विभ्रमित अपनी कंटकाकीर्ण...

0

अरुण शीतांश की 3 कविताएं

अरुण शीतांश जन्म  02.11.1972अरवल जिला के विष्णुपुरा गाँव में शिक्षा –एम ए ( भूगोल व हिन्दी)एम लिब सांईसएल एल बी पी एच डी कविता संग्रह  १. एक ऐसी दुनिया की तलाश में २. हर मिनट एक घटना है ३.पत्थरबाज़आलोचना४.शब्द साक्षी हैं सम्मान –           शिवपूजन सहाय सम्मानयुवा शिखर साहित्य सम्मान पत्रिकादेशज नामक पत्रिका का संपादन  संप्रति शिक्षण...

0

राहुल कुमार बोयल की 4 कविताएं

राहुल कुमार बोयल जन्म दिनांक- 23.06.1985जन्म स्थान- जयपहाड़ी, जिला-झुन्झुनूं( राजस्थान)सम्प्रति- राजस्व विभाग में कार्मिकपुस्तक- समय की नदी पर पुल नहीं होता (कविता संग्रह)            नष्ट नहीं होगा प्रेम ( कविता संग्रह) मोबाइल नम्बर- 7726060287 ई मेल पता- rahulzia23@gmail.com1. अंगुलियों का धर्म मेरे पास तुम्हारी एक अँगूठी है इसलिए नहीं कि...

0

संजीव ठाकुर की कविता ‘प्रेमिका की याद’

संजीव ठाकुर प्रेमिका की याद  1 प्रेमिका की याद मजबूत खूँटी टाँगकर खुद को हुआ जा सकता है निश्चिंत । 2 प्रेमिका की याद शहद में डूबा तीर बार–बार खाने का मन करे । 3 प्रेमिका की याद बरसाती नदी नहीं होती प्रेमिका की याद बूँदा–बाँदी भी नहीं प्रेमिका की...

0

धर्मपाल महेंद्र जैन की 4 कविताएं

धर्मपाल महेंद्र जैन जन्म : 1952, रानापुर,  जिला – झाबुआ (म. प्र.), भारत,  स्थायी निवास – टोरंटो, कनाडा शिक्षा : भौतिकी; हिन्दी एवं अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर प्रकाशन :  पाँच सौ से अधिक कविताएँ व हास्य-व्यंग्य प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। “दिमाग़ वालों सावधान” एवं “सर क्यों दाँत फाड़ रहा है?” (व्यंग्य संकलन) एवं “इस समय तक” (कविता संकलन) प्रकाशित। मुझे तुम्हें वह लौटाना है   मुझे...

0

पवन कुमार मौर्य की 3 कविताएं

पवन कुमार मौर्य जन्मतिथि- 01 जून, 1993 शिक्षा– स्नातक-भूगोल (ऑनर्स) (बीएचयू, बनारस)  एमए जनसंचार-एमसीयू, भोपाल. पेशा- दिल्ली में पत्रकारिता पता –  वर्तमान – नोएडा स्थाई पता- जन्म- बनारस, अब जिला- चन्दौली गांव- मानिकपुर, पोस्ट- नौबतपुर, थाना-सैयदराजा पिन- 232110 सम्पर्क सूत्र- 9667927643 Email- mauryapavan563 @gmail.com 1-  तुम्हारे साथ हूं तुम्हारी अधूरी ख्वाहिशों...

0

शशांक पांडेय की 7 कविताएं

शशांक पांडेय सुभाष लाँज, छित्तुपुर, बी.एच.यू, वाराणसी(221005) ● मो.नं-09554505947 ● ई.मेल-shashankbhu7@gmail.com 1. खिड़कियाँ मैंने बचपन में ऐसे बहुत से घर बनाएं और फिर गिरा दिए जिनमें खिड़कियाँ नहीं थीं दरवाजें नहीं थे बाकी सभी घरों की तरह उस घर में  मैंने सबकुछ लगाए थे लेकिन फिर भी  दुनिया को साफ-साफ...

0

सतीश खनगवाल की 3 कविताएं

सतीश खनगवाल जन्मतिथि – 18 अक्टूबर 1979 (दस्तावेजी)जन्मस्थान – रायपुर अहीरान, झुनझुनूं (राजस्थान)सम्प्रति – प्राध्यापक, शिक्षा निदेशालय, दिल्ली।कृतियाँ – सुलगता हुआ शहर (कविता – संग्रह), विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में लेख, लघुकथाएँ, व्यंग लेख, समीक्षाएँ, आदि प्रकाशित।      वह भी मुरझा जाता है     मुझे देखते ही     उसका पीला पड़ा चेहरा    ...

0

चन्द्र की कविता ‘दु:ख’

बहुत दुख से जब ग्रस्त हो जाता हूं मैं तब भीतर भीतर पसीज पसीज के रो रो जाता हूं तब अपनी पलकों पर पसरी हुई कई कई दिनों की मैल को  धो धो जाता हूं और  अंततः किसी घनेरी रात की लम्बी नींद में चुपचाप  सो सो जाता हूं और...